इजरायल में मोदी: आतंक पर दोनों देश साथ-साथ, भारतीय समुदाय को मिले तीन तोहफे
इजरायल में मोदी: आतंक पर दोनों देश साथ-साथ, भारतीय समुदाय को मिले तीन तोहफे
PUBLISHED : Jul 06 , 8:10 AMBookmark and Share



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इजरायल यात्र के दूसरे दिन बुधवार को दोनों देशों के बीच जल और कृषि क्षेत्र समेत सात समझौते हुए। मोदी और इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने वार्ता के बाद साझा बयान जारी किया। इसमें दोनों देशों ने आतंकवाद और कट्टरपंथ के खिलाफ साझा जंग का ऐलान किया। पाकिस्तान की ओर परोक्ष इशारा करते हुए मोदी ने कहा कि इजरायल की तरह भारत सीधे तौर पर आतंकवाद के खतरे और हिंसा का सामना कर रहा है, लिहाजा दोनों देश एक-दूसरे के रणनीतिक हितों की रक्षा करेंगे। वहीं, नेतन्याहू ने कहा कि आतंकी ताकतें हमें चुनौती दे रही हैं और इस मामले में हम कंधे से कंधा मिलाकर लड़ेंगे। दोनों देशों ने पश्चिम एशिया और अन्य क्षेत्रों के बारे में व्यापक चर्चा की। मोदी ने नेतन्याहू को भारत आने का न्योता भी दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया।

भारतीय समुदाय को मिले तीन तोहफे

तेल अवीव के कन्वेंशन सेंटर में हुए इवेंट में पीएम मोदी के साथ इजरायल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू भी शामिल हुए। पीएम ने अपने संबोधन में 3 घोषणाएं भी कीं। पीएम मोदी ने कहा कि तेल अवीव से दिल्ली-मुंबई के लिए फ्लाइट सर्विस शुरू की जाएगी। पीएम ने कहा कि इजरायल में अनिवार्य मिलिटरी सर्विस कर चुके भारतीय मूल के लोगों को ओवरसीज सिटिजनशिप ऑफ इंडिया (OCI) कार्ड जारी किया जाएगा। इसके अलावा पीएम ने इजरायल में इंडियन कल्चरल सेंटर खोलने की भी घोषणा की।

आतंकवाद के पनाहगाह देशों पर कार्रवाई हो :

विदेश सचिव एस जयशंकर ने कहा, मोदी और नेतन्याहू के बीच आतंकवाद को लेकर विस्तृत चर्चा हुई। दोनों नेताओं ने आतंकी गुटों और आतंकवाद के पनाहगाह देशों के खिलाफ कार्रवाई पर जोर दिया। आतंकवादरोधी सहयोग बढ़ाने पर दोनों देशों के बीच सहमति बनी है। दोनों देशों ने हथियारों के साझा उत्पादन पर भी विचार-विमर्श किया। परिभाषा तय हो : मोदी और नेतन्याहू ने कहा कि आतंकवाद वैश्विक शांति-स्थिरता के लिए गंभीर खतरा है और इसके खिलाफ मुखर लड़ाई की जरूरत है। आतंकवाद को किसी भी आधार पर सही नहीं ठहराया जा सकता।