KGMU में आग लगने के बाद अफरातफरी के बीच 8 मरीजों की मौत, जांच के आदेश
KGMU में आग लगने के बाद अफरातफरी के बीच 8 मरीजों की मौत, जांच के आदेश
PUBLISHED : Jul 16 , 9:48 AMBookmark and Share



लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रॉमा सेंटर में शनिवार देर शाम भीषण आग लग गई. आग की वजह से अफरातफरी के माहौल में समय से इलाज न मिल पाने के कारण 8 मरीजों की मौत की बात सामने आई है. हालांकि मरीजों की मौत की अधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं हुई है.

इस मामले में केजीएमयू के सीएमएस एसएन शंखवार ने बताया कि इलाज के अभाव में किसी मरीज की मौत नहीं हुई है. वहीं इलाज के दौरान मरीज की मौत एक सामान्य प्रकिया. उन्होंने बताया कि ट्राॅमा सेंटर में अति संवेदनशील मरीज आते हैं. फिलहाल टाॅमा सेंटर पर मरीजों का इलाज सुचारु रूप से शुरू हो गया हैं.

घटना के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने राहत और बचाव कार्य युद्धस्तर पर चलाने के निर्देश दिए हैं. वहीं सीएम योगी ने आग लगने की घटना का तत्काल संज्ञान लेते हुए मंडलायुक्त को जांच कर तीन दिन में रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए हैं.

बता दें, कि फायरब्रिगेड की करीब डेढ़ दर्जन गाड़‍ियां मौके पर पहुंची और देर रात तक घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका. सूचना म‍िलते ही डीएम कौशल राज शर्मा, एसएसपी दीपक कुमार सह‍ित सभी बड़े अध‍िकारी मौके पर मौजूद थे.

आग की सूचना म‍िलते ही मरीजों को बाहर न‍िकाला गया. करीब 150 मरीजों को 8 अलग-अलग सरकारी हॉस्प‍िटल में भर्ती कराया गया है.  बताया जाता है क‍ि ट्रॉमा सेंटर में करीब 300 मरीज भर्ती थे, ज‍िसमें से 37 वेट‍िंलेटर पर थे. 100 से ज्यादा मरीज को शताब्दी मेड‍िकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है. इसके अलावा गांधी वार्ड समेत कई प्राइवेट यूनिट में मरीजों को शिफ्ट कराया गया है.