जयंत सिन्हा ने किया साफ, बिना निवेश ईपीएफ पर लगेगा टैक्स
जयंत सिन्हा ने किया साफ, बिना निवेश ईपीएफ पर लगेगा टैक्स
PUBLISHED : Mar 01 , 10:33 PMBookmark and Share


नई दिल्ली। ईपीएफ पर बनी असमंजसता को दूर करते हुए मंगलवार को वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने यह साफ कर दिया है कि 60 प्रतिशत ईपीएफ पर टैक्स तभी बचा सकते हैं, जब उसे पेंशन स्कीम में निवेश किया जाएगा। यानी अगर आप बिना निवेश करे ईपीएफ की राशि को निकालते हैं तो टैक्स देना होगा।

गौरतलब है कि इसस पहले सरकार भी ईपीएफ को लेकर अलग-अलग तरह के बयान दे चुकी है जिससे ईपीएफ फंड को लेकर अब भी कर्मचारियों में असमंजसता की स्थिति बनी हुई है। इससे पहले सोमवार को आम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि 1 अप्रैल 2016 से पीएफ खाते में जमा होने वाले अमाउंट पर 60 फीसदी टैक्स लगेगा। इस पर रेवेन्यू सेक्रटरी हसमुख अधिया ने पीटीआई से कहा कि पीपीएफ से रकम निकासी पर पहले की तरह टैक्स छूट जारी रहेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि 1 अप्रैल 2016 के बाद ईपीएफ की 60 फीसदी रकम पर मिलने वाले ब्याज की निकासी पर टैक्स लगेगा, जिसमें 15 हजार रुपये से कम आय वाले कर्मचारी बाहर रखे गए हैं।

उन्होंने कहा कि पीएफ के 60 फीसदी कॉन्ट्रिब्यूशन नहीं बल्कि उस पर मिलने वाला इंटरेस्ट टैक्सेबल होगा। पीएफ के 60 फीसदी कॉन्ट्रिब्यूशन नहीं बल्कि उस पर मिलने वाला इंटरेस्ट टैक्सेबल होगा। अरुण जेटली ने एलान किया था कि अब 1 अप्रैल 2016 से प्रॉविडेंट फंड में जमा होने वाली राशि पर भी टैक्स लगेगा। पहले इस राशि पर कोई टैक्स नहीं लगता था।

अब सरकार ने कहा कि वह 1 अप्रैल 2016 के बाद इस कोष में जो भी रकम जमा होगी, उसके 60 प्रतिशत हिस्से पर मिलने वाले ब्याज़ पर कर लगेगा। यह कर उस साल के टैक्स स्लैब के हिसाब से होगा। लेकिन 1 अप्रैल 2016 से पहले जमा की गई रकम पर कोई कर नहीं होगा।

मान लीजिए की आप 31 दिसंबर, 2016 को रिटायर हो रहे हैं। ऐसे में आपके पीएफ खाते में 1 अप्रैल, 2016 से लेकर 31 दिसंबर, 2016 के बीच जमा होने वाली रकम के 60 पर्सेंट के हिस्से पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स चुकाना होगा। बाकी के 40 पर्सेंट अमाउंट पर कोई टैक्स नहीं लगेगा। अभी यह स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है कि अगर कोई पीएफ खाते का पैसा आकस्मिक जरूरतों के लिए निकालता है तो उस पर ज्यादा कर लगेगा या नहीं।