News
  • प्रद्युम्न मर्डर केस : आरोपी कंडक्‍टर कोर्ट में बोला 'जज साहब मुझे फंसाया गया'
    PUBLISHED : Sep 19 , 8:48 AM


  • गुरुग्राम : गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्‍कूल में 8 सितंबर को हुई प्रद्युम्न की हत्‍या के मामले में सोमवार को नया मोड़ आ गया है. अदालत में सोमवार को सुनवाई के दौरान आरोपी कंडक्‍टर अशोक ने अपने बयान बदल दिए हैं. उसके बयान बदलने के बाद पुलिस की परेशानियां बढ़ गई हैं. दरअसल मामले की सुनवाई सोमवार को स्‍पेशल कोर्ट में की गई. इस दौरान अशोक ने खुद को निर्दोष बताया और कहा कि मुझे इस मामले में फंसाया जा रहा है.

    इस मामले के तूल पकड़ने के बाद बस कंडक्‍टर अशोक ने मीडिया के सामने प्रद्युम्न की हत्‍या करने की बात कुबूल की थी. उसने यह भी कहा था कि प्रद्युम्न की हत्‍या करने के लिए उसने चाकू बस के टूल बॉक्‍स से लिया था. इस‍के बाद पुलिस अशोक को हत्यारा मान कर जांच पूरी करने का दावा कर रही थी. लेकिन सोमवार को अशोक ने जज के सामने स्‍पेशल कोर्ट में बयान बदल दिए.
    अशोक के वकील मोहित वर्मा ने मीडिया के सामने बताया कि अतिरिक्त सेशन जज रजनी यादव की कोर्ट में अशोक को दोपहर करीब 2 बजे पेश किया गया. अदालत में अशोक ने जज के सामने खुद को निर्दोष बताया.

    अशोक ने कहा कि पुलिस ने मुझे फंसाया है, उसने ये भी कहा कि पुलिस ने हत्या का जुर्म कबूल करने के लिए मेरे ऊपर दबाव बनाया है. इस पर जज ने कहा ठीक है. इसके बाद अशोक को 29 सिंतबर तक के लिए जेल भेज दिया गया. अशो के वकील मोहित वर्मा ने कहा कि अशोक निर्दोष है और पुलिस उसको फंसाने के लिए दबाव बना रही है.
    सोमवार को अदालत में अशोक के अलावा इस मामले में गिरफ्तार किए गए रायन स्‍कूल के दो अन्‍य अधिकारियों फ्रासिंस और जेएस थॉमस को भी पेश किया गया. अदालत में पेशी के बाद जेएस थॉमस ने कहा कि वह स्कूल का एचआर हैड नहीं है. वह तो सिर्फ अकाउंटेट है. थॉमस के वकील ने बताया कि आरोपी स्कूल में वेतन बांटने का काम करता है. इस दौरानल स्कूल की ओर से दिए गए नियुक्ति पत्र को भी जज को दिया गया.

  • दिवाली तक कम हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: धर्मेन्द्र प्रधान
    PUBLISHED : Sep 19 , 8:25 AM


  • पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने सोमवार को कहा कि पेट्रोल-डीजल के दाम अगले महीने दिवाली तक नीचे आ सकते हैं।

    कीमत में दैनिक आधार पर समीक्षा के बाद तेल कीमतों में तीव्र वृद्धि को लेकर विपक्षी दलों की आलोचना के बीच उनकी यह टिप्पणी आई है। सरकार ने हाल ही में ईंधन के दाम की दैनिक आधार पर समीक्षा करने की मंजूरी दी है। थोड़े समय के लिए यहां आए प्रधान ने कहा, ‘ईंधन के दाम दिवाली तक नीचे आ सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि अमेरिका में बाढ़ के कारण तेल उत्पादन 13 प्रतिशत कम होने के कारण रिफाइनरी तेल के दाम मजबूत हुए हैं।

    तेल कंपनियों के मार्जिन के बारे में पूछे जाने पर प्रधान ने कहा कि उनका संचालन सरकार कर रही है और हर चीज बिल्कुल साफ है। उन्होंने कंपनियों के लिए अधिक मार्जिन से इनकार किया।

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान से नीति आयोग के सदस्य श्री रमेशचन्द्र की मुलाकात
    PUBLISHED : Sep 19 , 8:04 AM

  • भावान्तर भुगतान योजना की प्रशंसा


    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहाँ मंत्रालय में नीति आयोग के सदस्य श्री रमेश चन्द्र ने मुलाकात की। मुलाकात के दौरान उन्होंने राज्य सरकार की भावान्तर भुगतान योजना की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यह योजना नीति आयोग की प्राथमिकताओं में है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को अपनी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिये राज्य सरकार ने यह योजना लागू की है।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह योजना सुनिश्चित करेगी कि किसानों को समर्थन मूल्य से कम मूल्य नहीं मिले। यदि बाजार मूल्य समर्थन मूल्य से कम होगा, तो अंतर की राशि किसान के खाते में जमा करने की पारदर्शी व्यवस्था इस योजना में की गई है। श्री चौहान ने बताया कि कृषि से होने वाली आय को दोगुना करने के लिये प्रदेश में कान्ट्रेक्ट फार्मिंग एक समाधान है, जो छोटे किसानों के लिये लाभकारी होगा। प्रदेश में इसे प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसान कर्ज माफी के बजाय उपज का उचित मूल्य चाहते हैं। प्रदेश में उचित मूल्य की प्रत्याशा में किसानों द्वारा भण्डारण करने पर अनुदान देने की व्यवस्था की गई है। किसानों की आय को दोगुना करने के लिये पशुपालन, मछली पालन, कृषि, वानिकी तथा अन्य गतिविधियों को कृषि से जोड़ा जा रहा है।

    नीति आयोग के सदस्य श्री रमेशचन्द्र ने कहा कि भावान्तर भुगतान योजना का फायदा सभी किसानों को मिलेगा, जबकि कर्ज-माफी का फायदा केवल पच्चीस प्रतिशत किसानों को मिलता है। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने कीर्तिमान स्थापित किये हैं। अब कृषि विपणन, कान्ट्रेक्ट फार्मिंग और पशुधन विकास, डेयरी उत्पादन के क्षेत्र में नवाचार करें और प्रदेश, देश का नेतृत्व करे।

    इस अवसर पर राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री चेतन्य काश्यप, नीति आयोग के सलाहकार श्री अनिल श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिवद्वय श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल सहित अधिकारीगण उपस्थित थे।
    एस.जे.

  • कोलार क्षेत्र अब कहलाएगा श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर
    PUBLISHED : Sep 19 , 8:00 AM

  • व्यवस्थित विकास से बनेगी अल्ट्रा मॉडर्न टाउनशिप
    नल-जल प्रदाय 25 दिसम्बर से तहसील कार्यालय जल्दी शुरू होगा
    डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बी.ए., एम.एस.सी. कक्षाएं शुरू करने की घोषणा
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिया 156 करोड़ रूपये के विकास कार्यों का उपहार


    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोलार क्षेत्र को श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर के नाम से जाना जाएगा। इसका व्यवस्थित विकास कर   सर्वसुविधायुक्त अल्ट्रा मॉडर्न टाउनशिप बनाई जाएगी। श्री चौहान आज यहां कोलार में 156 करोड़ रूपये लागत के विकास कार्यों के शुभारंभ अवसर पर विशाल जन-समूह को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिन 25 दिसंबर से डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर में नल-जल प्रदाय होने लगेगा। इस क्षेत्र में तहसील कार्यालय भी जल्दी शुरू किया जाएगा।

    मुख्यमंत्री ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय भवन का लोकार्पण किया और यहां बी.ए., बाटनी और एम.एस.सी. कक्षाएं शुरू करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि श्यामाप्रसाद मुखर्जी नगर के साथ ही बैरागढ़ क्षेत्र का भी विकास किया जाएगा। श्री चौहान ने इस अवसर पर भोपाल शहर के शासकीय महाविद्यालयों में पढ़ रहे विद्यार्थियों को स्‍मार्ट फोन प्रदान किये। उन्होंने प्रतीक स्वरूप किसानों को खसरे की नि:शुल्क नकल भी प्रदान की। युवाओं का आव्हान करते हुये मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नया मध्यप्रदेश बनाने का संकल्प लें। नौकरी मांगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बने। इसके लिये मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक सहायता योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना जैसी योजनाओं का लाभ उठाने आगे आयें। श्री चौहान ने कहा कि युवाओं की जिम्मेदारी केवल पढ़ाई करना और आगे बढ़कर अच्छा नागरिक बनने की है। उनकी पढ़ाई में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आने दी जाएगी। प्रतिभाशाली बच्चों की शिक्षा का खर्चा सरकार उठाएगी। उन्होंने कहा कि युवाओं का भविष्य किसी भी तरह खराब नहीं होने देंगे।

    मुख्यमंत्री ने किसानों के लिये मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना, प्रतिभाशाली बच्चों के लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना, गरीबों के लिये दीनदयाल रसोई जैसी अनूठी और नवाचारी योजनाओं का उल्लेख करते हुये कहा कि हर गरीब व्यक्ति के पास रहने के लिये अपना भूखण्ड अथवा मकान होगा। प्रदेश में अगले दो वर्षों में 15 लाख मकान बनाये जाएंगे।

    “दिल से” कार्यक्रम में बेटियों से संवाद

    श्री चौहान ने बेटियों से पढ़ाई करने और आगे बढ़ने का आव्हान करते हुये कहा कि वे जल्दी ही आकाशवाणी से “दिल से” कार्यक्रम में बहनों और बेटियों से संवाद करेंगे। उन्‍होंने इसके लिये बेटियों से सुझाव भी मांगे। श्री चौहान ने कहा कि बेटियों को स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत और सरकारी नौकरी में 33 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि बेटियों का भविष्य संवारे बिना समाज का विकास नहीं हो सकता। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर का कायाकल्प करने वाले विकास कार्यो की शुरूआत करने के लिये विधायक श्री रामेश्वर शर्मा की सराहना की। उन्होंने स्थानीय निवासियों से स्वच्छता सर्वेक्षण में भागीदारी कर भोपाल को स्वच्छता में पहले स्थान पर लाने का संकल्प दिलाया। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन से लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता आई है और मानसिकता भी बदली है।

    राजनीति का एक मात्र उद्देश्य है जन-सेवा

    भोपाल के सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के अथक परिश्रम से आज मध्यप्रदेश सर्वाधिक तेज गति से प्रगति करने वाला राज्य बन गया है। अन्य राज्यों के लोग प्रदेश की अनूठी योजनाओं का अध्ययन करने आते हैं और उन्हें अपने यहां अपनाते हैं। श्री संजर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने विकास और समृद्धि के लिये अनुकूल वातावरण तैयार किया है और यह साबित कर दिया है कि राजनीति का एक मात्र उद्देश्य जनसेवा है।

    विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ने स्वागत भाषण में कहा कि कोलार क्षेत्र का बेतरतीब विकास हुआ, यहां खेतों में मकान बने। जल-मल निकासी की व्यवस्था नहीं थी। इस क्षेत्र के विद्यार्थियों के लिये कोई कॉलेज नहीं था और कई नागरिक सेवाओं की कमी थी। अब पूरा दृश्य बदल रहा है। उन्होंने 156 करोड़ रूपये के विकास कार्यों की शुरूआत को क्षेत्र के लिये अनुपम उपहार बताया। उन्होंने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर का विकास भोपाल शहर और प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जो बोलते हैं, उसे पूरा करते है और उसके बाद स्वयं निरीक्षण भी करते हैं।

    महापौर भोपाल श्री आलोक शर्मा ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर के निवासियों को विकास कार्यों की शुरूआत पर बधाई देते हुये कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश के लोगों के विकास और समृद्धि के लिये दिन रात मेहनत की है और मध्यप्रदेश का गौरव बढ़ाया है।

    कोलार को मिली विकास की सौगात

    मुख्यमंत्री ने कोलार क्षेत्र को आज कई महत्वपूर्ण विकास कार्यों की सौगात दी। उन्होने कोलार क्षेत्र के लिये 24 करोड़ रूपये लागत की विद्युतीकरण योजना का शिलान्यास किया। सीवेज समस्या के निदान के लिये 125 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले कोलार से सीवेज नेटवर्क तक योजना के कार्य का शुभारंभ किया। राजहर्ष क्षेत्र में 7.2 करोड़ रूपये की लागत से सर्वसुविधायुक्त कॉलेज शासकीय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्नातकोत्तर महाविद्यालय का लोकार्पण किया।

    कोलार का कायाकल्प

    कोलार के लिये नया तहसील कार्यालय बन रहा है। पेयजल समस्या समाधान के लिये 52 करोड़ रूपये की केरवा पेयजल योजना का काम चल रहा है। बीस लाख लीटर की क्षमता वाली 5 टंकियों में से 4 टंकियों का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। कोलार के सभी वार्डों में 159 कि.मी. में जल वितरण नलिकाएं बिछाने का काम बहुत तेजी से चल रहा है। अब तक 80 कि.मी. में नलिकाएं बिछायी जा चुकी है।केरवा डेम पर 2 लाख लीटर की क्षमता वाला वाटर प्यूरीफायर टेंक एवं केरवा में 35 फिट गहरा इंटक बनकर तैयार है।

    अमरनाथ कॉलोनी स्थित कलियासोत नदी पर 4.5 करोड़ रूपये से पुल का निर्माण जल्दी पूरा हो जाएगा। औद्योगिक नगर मंडीदीप के विभिन्न उद्योगों में कार्यरत कोलारवासियों को अब होशंगाबाद रोड़ पर लगने वाले जाम से निजात मिलने वाली है। गोल जोड़ से मंडीदीप तक लगभग 13 कि.मी. मार्ग का निर्माण किया जा रहा है। पांच करोड़ रूपये लागत से साढ़े सात मीटर चौड़ा यह मार्ग पूरी तरह सी.सी. होगा।

    इस अवसर पर विधायक श्री सुरेंद्रनाथ सिंह, भोपाल संभाग आयुक्त श्री अजात शत्रु, नगर निगम आयुक्त सुश्री प्रियंका दास, भोपाल कलेक्टर श्री सुदाम खाड़े, मेयर इन काउन्सिल के सदस्य और बड़ी संख्या में स्थानीय निवासी उपस्थित थे।
    एएस
        

  • एसोचैम ने कहा, टैक्स की वजह से पेट्रोल-डीजल कीमतों में बढ़ोतरी
    PUBLISHED : Sep 18 , 8:08 AM


  • पिछले तीन महीनों में कच्चे तेल की कीमतें 45.60 रुपये प्रति बैरल से लेकर अभी तक 18 फीसदी बढ़ी है, जिसका नतीजा है कि दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 65.40 रुपये से बढ़कर 70.39 रुपये तक पहुंच गई है.

    नई दिल्ली: देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें 3 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है, जिससे उपभोक्ता चिंतित हैं. उनका मानना है जब इन उत्पादों पर लगने वाले करों में बार-बार फेरबदल किया जा रहा हो तो बाजार आधारित कीमतों की अवधारणा का कोई मतलब नहीं है. जब कच्चे तेल के दाम लगातार गिर रहे हैं तो देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ रही है, जबकि 2014 के मई में कच्चे तेल की कीमत 107 डॉलर प्रति बैरल थी, उस वक्त अभी से सस्ता पेट्रोल मिल रहा था. यह सच है कि पिछले तीन महीनों में कच्चे तेल की कीमतें 45.60 रुपये प्रति बैरल से लेकर अभी तक 18 फीसदी बढ़ी है, जिसका नतीजा है कि दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 65.40 रुपये से बढ़कर 70.39 रुपये तक पहुंच गई है.

    यह बढ़ोतरी कच्चे तेल के दाम में बढ़ोतरी की तुलना में कम है. लेकिन साल 2014 के मई में कच्चे तेल की कीमत 107 रुपये प्रति बैरल पहुंच जाने के बाद भी दिल्ली में 1 जून 2014 को पेट्रोल की कीमत 71.51 रुपये प्रति लीटर थी और ग्राहक यह तुलना कर रहे हैं. एसोचैम के नोट में कहा गया, "जब कच्चे तेल की कीमत 107 डॉलर प्रति बैरल थी, तो देश में यह 71.51 रुपये लीटर बिक रही थी. अब जब यह घटकर 53.88 डॉलर प्रति बैरल आ गई है तो उपभोक्ता तो यह पूछेंगे ही कि अगर बाजार से कीमतें निर्धारित होती है तो इसे 40 रुपये लीटर बिकना चाहिए."

    इसमें कहा गया है कि हालांकि कीमतों को बाजार पर छोड़ा गया है, लेकिन केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा लिए जानेवाले उत्पाद कर और बिक्री कर या वैट में तेज बढ़ोतरी के कारण सुधार का कोई मतलब नहीं रह गया है. एसोचैम के महासचिव डी. एस. रावत ने कहा, "उपभोक्ताओं की कोई गलती नहीं है. क्योंकि सुधार एकतरफा नहीं हो सकता. अगर कच्चे तेल के दाम गिरते हैं तो उसका लाभ उपभोक्ताओं को दिया जाना चाहिए."

    चेंबर ने कहा कि हालांकि यह सच है कि सरकार को अवरंचना और कल्याण योजनाओं के लिए संसाधनों की जरुरत होती है, लेकिन केंद्र और राज्यों की पेट्रोल और डीजल पर जरुरत से ज्यादा निर्भरता आर्थिक विकास को प्रभावित करती है. चेंबर ने कहा, "इसका असर आर्थिक आंकड़ों पर दिख रहा है. साल-दर-साल आधार पर अगस्त में मुद्रास्फीति की दर क्रमश: 24 फीसदी और 20 फीसदी थी. इससे ऐसे समय में जब उद्योग को निवेश के लिए कम महंगे वित्तपोषण की जरुरत है, भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा ब्याज दरों को घटाने की संभावनाओं पर असर पड़ता है."

  • श्रद्धांजलि: एयरफोर्स मार्सल अर्जन सिंह का आज होगा अंतिम संस्कार, आधा झुका रहेगा राष्ट्रध्वज
    PUBLISHED : Sep 18 , 8:03 AM


  • भारतीय वायु सेना के मार्शल और 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के नायक अर्जन सिंह का आज दिल्ली में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। उनके सम्मान में आज दिल्ली सभी सरकारी इमारतों में राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा। उनका अंतिम संस्कार सुबह 10 बजे किया जाएगा। अर्जन सिंह वायुसेना के एकमात्र अधिकारी थे, जिन्हें फाइव स्टार रैंक प्रदान किया गया था। उनका 98 साल की उम्र में शनिवार को निधन हो गया। अर्जन सिंह का अविभाजित भारत के पंजाब प्रांत के लायलपुर में 15 अप्रैल 1919 को जन्म हुआ था।

    अर्जन सिंह का शनिवार शाम को दिल्ली के आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में निधन हो गया था। वह 98 वर्ष के थे और दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। एक आधिकारिक सूचना के अनुसार दिल्ली के भवनों पर सोमवार को राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा। एअर मार्शल का कल ही सुबह दस बजे राजकीय सम्मान के साथ बरार स्क्वैयर पर अंतिम संस्कार किया जाएगा।

    1965 के युद्घ के लिए मिला था फाइव स्टार रैंक
    अर्जन सिंह 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय भारतीय वायु सेना के प्रमुख थे। उस युद्घ में भारत की जीत में वायु सेना और अर्जन सिंह का योगदान अतुलनीय था। जिसके लिए इन्हें फाइव स्टार रैंक दिया गया था। 44 साल की उम्र में ही अर्जन सिंह को भारतीय वायु सेना की कमान सौंप दी गई थी। वह स्विजरलैंड में भारत के राजदूत और केन्या में उच्चायुक्त पद पर भी रह चुके हैं। उन्हें 1965 के युद्ध में बेहतरीन नेतृत्व करने के लिए पद्म विभूषण से सम्मानित भी किया गया है।

    उन्हें 44 साल की आयु में ही भारतीय वायु सेना का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी दी गई थी, जिसे उन्होंने शानदार तरीके से निभाया. साल 1965 की लड़ाई में जब भारतीय वायु सेना अग्रिम मोर्चे पर थी तब वह उसके प्रमुख थे। अलग-अलग तरह के 60 से भी ज्यादा विमान उड़ाने वाले सिंह ने भारतीय वायु सेना को दुनिया की सबसे शक्तिशाली वायु सेनाओं में से एक बनाने और विश्व में चौथी सबसे बड़ी वायु सेना बनाने में अहम भूमिका निभाई थी।

    1965 में पद्म विभूषण से सम्मानित

    बहुत कम बोलने वाले व्यक्ति के तौर पर पहचाने जाने वाले सिंह ना केवल निडर लड़ाकू पायलट थे, बल्कि उनको हवाई शक्ति के बारे में गहन ज्ञान था जिसका वह हवाई अभियानों में व्यापक रूप से इस्तेमाल करते थे। उन्हें 1965 में देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। वह एक अगस्त 1964 से 15 जुलाई 1969 तक भारतीय वायुसेना के प्रमुख रहे।

    स्विट्जरलैंड में भारत के राजदूत भी रहे

    वायुसेना से सेवानिवृत्ति के बाद अर्जन सिंह को 1971 में स्विट्जरलैंड में भारत का राजदूत नियुक्त किया गया।  इसके साथ ही उन्होंने वैटिकन में भी राजदूत के रूप में सेवा दी।  वह 1974 में केन्या में उच्चायुक्त भी रहे। वह राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य तथा दिल्ली के उपराज्यपाल भी रहे। उन्हें जनवरी 2002 में वायुसेना का मार्शल बनाया गया था।

  • प्रधानमंत्री के जन्म-दिन पर मुख्यमंत्री ने किया श्रमदान
    PUBLISHED : Sep 18 , 7:36 AM


  • प्रधानमंत्री के जन्म-दिन पर मुख्यमंत्री ने किया श्रमदान
    स्वच्छता अभियान चलाकर घर-घर में बनवाएं शौचालय - मुख्यमंत्री श्री चौहान
    सूखे के संकट से निपटने के लिए राज्य सरकार हर संभव मदद करेगी
    छतरपुर जिले के ग्राम कनेरी में "स्वच्छता ही सेवा'' एवं "जल रोको ''अभियान में मुख्यमंत्री


    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस पर आज छतरपुर जिले की ग्राम पंचायत सूरजपुर के ग्राम कनेरी पहुँचकर हितग्राही गनपत आदिवासी के आवासी शौचालय के निर्माण के लिये श्रमदान किया और 'स्वच्छता ही सेवा'' का संदेश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जन्म-दिन प्रदेश में सेवा-दिवस के रूप में मनाया जा रहा है।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम कनेरी में 'स्वच्छता ही सेवा'' और 'जल रोको'' अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि घर-घर में शौचालय होना बहुत जरूरी है। शौचालय नहीं होने से बीमारियाँ फैलती हैं। घर की मान-मर्यादा भंग होती है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि स्वच्छता अभियान चलाकर घर-घर शौचालय बनवाए जाएं। जन-प्रतिनिधि भी इस अभियान को सफल बनाने में अपना सहयोग करें। श्री चौहान ने लोगों से कहा कि अपने गाँव एवं घर को स्वच्छ रखें।

    श्री चौहान ने कहा कि छतरपुर जिले में इस वर्ष बारिश 50 प्रतिशत से भी कम हुई है। इस कारण सूखे का संकट संभव है। सूखे के इस संभावित संकट के निराकरण के लिये राज्य सरकार हर संभव सहायता करेगी। उन्होंने कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्मित गनपत आदिवासी के घर के सामने शौचालय बनवाने के लिए भूमि पूजन किया और शौचालय का गड्ढा खोदकर श्रमदान किया। हितग्राही गनपत आदिवासी, हरी आदिवासी, हुलासी आदिवासी एवं जनकरानी के आवास का निरीक्षण कर हितग्राहियों से चर्चा की। श्री चौहान ने यहीं पौध-रोपण भी किया और 32 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना की प्रोत्साहन राशि के चैक वितरित किए। मुख्यमंत्री ने राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के स्टॉल में पहुँचकर स्व-सहायता समूहों द्वारा निर्मित उत्पादों की जानकारी ली।

    कार्यक्रम में पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री श्रीमती ललिता यादव, विधायक कुंवर विक्रम सिंह, श्री मानवेन्द्र सिंह, श्री पुष्पेन्द्र नाथ पाठक, श्रीमती रेखा यादव, श्री आर.डी. प्रजापति, बुंदेलखण्ड विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री राजेश प्रजापति, पूर्व विधायक श्री विजय बहादुर सिंह बुंदेला, श्री उमेश शुक्ला, पूर्व सांसद श्री जीतेन्द्र सिंह बुंदेला, नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती अर्चना सिंह, श्री घासीराम पटेल सहित अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग श्री राधेश्याम जुलानिया उपस्थित थे।
    दुर्गेश रायकवार
        

  • प्रद्युम्न मर्डरः 10 दिन बाद आज से खुलेगा रेयान इंटरनेशनल स्कूल, पिता वरुण की अपील सीबीआई जांच शुरू होने तक न खुले स्कूल
    PUBLISHED : Sep 18 , 7:31 AM


  • दिल्ली से सटे गुरुग्राम का रेयान इंटरनेशनल स्कूल आज खुल जाएगा। प्रशासन ने इसे आज से खोलने का आदेश दिया है। वहीं इसी स्कूल में हत्या का शिकार हुए सात साल के मासूम प्रद्युम्न ठाकुर के पिता वरुण चंद्र ठाकुर ने इस पर आपत्ति दर्ज की है। उनका कहना है कि अगर स्कूल खुला तो वहां मौजूद साक्ष्य और न्याय संबंधी सारे सबूत खत्म हो जाएंगे। उन्होंने अपील की है कि जब तक सीबीआई प्रारंभिक जांच नहीं कर लेती तब तक स्कूल को बंद रखा जाए। 

    प्रद्युम्म के पिता की अपील
    वरुण के वकील सुशील टेकरीवाल ने कहा, रेयान स्कूल खुलने से वहां मौजूद साक्ष्य और न्याय संबंधी सबूत नष्ट हो जाएंगे। इसके खत्म होने से केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की जांच सीधे तौर पर प्रभावित होगी। लिहाजा, स्कूल को तत्काल प्रभाव से बंद रखा जाना चाहिए जब तक कि सीबीआई अपनी प्रारंभिक जांच पूरी नहीं कर लेती.' टेकरीवाल ने कहा कि यह आशंका रविवार को प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने व्यक्त की है।
    आज से खुल सकता स्कूल

    गुरुग्राम के डिप्टी कमिश्नर विनय प्रताप सिंह का कहना है कि प्रबंधन की पूरी कोशिश है कि सोमवार से स्कूल दोबारा खुल जाएगा। वहीं, अगले तीन महीने के लिए चार्ज भी संभाल लिया जाएगा। बता दें कि शुक्रवार को सरकार ने रेयान स्कूल का प्रबंधन तीन महीने के लिए अपने हाथ में ले लिया है। सिंह ने यह भी बताया कि सेफ्टी गाइडलाइंस के पालन को लेकर स्कूलों की मीटिंग बुलाई गई है। यह सुनिश्चित करने की कोशिश की जाएगी कि ऐसी घटनाएं अब दोबारा न हों।
    मां का शक सही निकला

    प्रद्युम्न की हत्या मामले में आखिरकार मां ज्योति ठाकुर का शक सही निकला। स्‍कूल प्रबंधन और पुलिस के तमाम दावों के बीच प्रद्युम्न की मां लगातार इस बात पर अडिंग रही कि मेरे बाबू को अशोक ने नहीं मारा है। इसके पीछे जरूर कोई बड़ी चाल है। एसआइटी की रिपोर्ट आने के बाद स्‍कूल प्रबंधन के दावों की पोल खुल चुकी है। जांच में यह तो तय हो गया है कि हत्‍या के पीछे एक बड़ा राज छिपा है।

    बच्चे के पिता वरुण ठाकुर पहले से ही यह कह रहे हैं कि उनके बच्चे की हत्या योजना बनाकर की गई। बच्चे को बाथरूम में ले जाया गया था। वहां पर हत्यारोपी बस हेल्पर अशोक के अलावा और भी कोई था। एक लड़की ने वरुण को यह बताया भी है कि बाथरूम में अशोक के अलावा भी कोई था।

    यह कौन था यह पुलिस पता नहीं लगा पाई है। तीन दिन की पुलिस रिमांड में भी यह बात सामने नहीं आई कि मासूम की हत्या में और कौन था। छात्र की मां ज्योति ठाकुर ने मंगलवार को भी यही कहा कि उसके बेटे की दो आंख उसकी दुश्मन बन गई।

    क्‍या कहती है एसआइटी की रिपोर्ट

    रिपोर्ट में चौंकाने वाली बात यह है कि उसमें दावा किया गया है जघन्य हत्या के मामले में किसी एक अन्य शख्स की भी भूमिका संभावित है, जो इस वारदात को अंजाम देने के बाद शौचालय की टूटी खिड़की के रास्ते से भाग गया। रिपोर्ट में साफ है कि स्‍कूल प्रबंधन ने सबूतों के साथ छेड़छाड़ की। ऐसे में शक की सुई स्‍कूल प्रबंधन पर जाना लाजमी है।

    8 सितंबर को प्रद्युम्न की हत्या कर दी गई थी
    उल्लेखनीय है कि कक्षा दो के छात्र प्रद्युम्न की आठ सितंबर को टॉयलेट में गला काटकर नृशंस हत्या कर दी गई थी. बस के एक कंडक्टर को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है और पुलिस ने बस कंडक्टर अशोक कुमार (42) को इस हत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया है. पुलिस का कहना है कि अशोक ने बच्चे का यौन शोषण करने की कोशिश की, जिसमें विफल रहने पर उसने बच्चे की चाकू से गला काटकर हत्या कर दी.

    प्रद्युम्न के पिता 8 सितंबर की सुबह बेटे को स्कूल पहुंचाकर घर लौटे और एक घंटा बाद ही उसे स्कूल के टॉयलेट में खून से लथपथ, मृत पाया गया था. इस घटना के बाद समूचे देश में स्कूलों की सुरक्षा व्यवस्था और बच्चों की सुरक्षा राष्ट्रीय मुद्दा बन गई है. हरियाणा सहित कई राज्यों में चल रहे रेयान स्कूल के बाहर अभिभावकों और आक्रोशित लोगों ने प्रदर्शन किया था।

  • Korea Open: फाइनल में पहुंचीं पीवी सिंधु, इतिहास रचने से एक कदम दूर
    PUBLISHED : Sep 16 , 3:12 PM


  • भारत की स्टार शटलर पीवी सिंधु कोरिया ओपन के फाइनल में पहुंच गई हैं। उन्होंने सेमीफाइनल में चीन की बिंजिआओ को 21-10, 17-21,21-16 से हराया। इस मुकाबले में सिंधु की जबर्दस्त शुरूआत रही। उन्होंने पहला गे 16 मिनट में ही जीत लिया। हालांकि दूसरे गेम में हार का सामना करना पड़ा। लेकिन फिर तीसरे गेम में वापसी करते हुए चीनी शटलर को हराया।

    सिंधु फाइनल में जापान की नोजोमी ओकुहारा भिड़ेंगी। ओकुहारा ने पिछले महीने वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में सिंधु को हराया था। वर्ल्ड नंबर 9 ओकुहारा ने सेमीफाइनल में 2016 में चैंपियन वर्ल्ड नंबर 2 हमवतन एकाने यामागुची को 21-17, 21-18 से हराकर फाइनल में जगह बनाई है।
    सिंधु अगर कोरिया ओपन जीतने में कामयाब रहती हैं तो वो इस टूर्नामेंट में जीत हासिल करने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी होंगी। कोरिय ओपन की शुरूआत 1991 में हुई थी। इसे में अब तक किसी भी भारतीय खिलाड़ी ने खिताबी जीत हासिल नहीं की है।

  • फेस्टिवल ऑफर: आईसीआईसीआई बैंक होम लोन पर देगा कैशबैक
    PUBLISHED : Sep 16 , 2:48 PM


  • त्योहारी मौसम में ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए आईसीआईसीआई बैंक ने 30 नवंबर तक आवास ऋण लेने वालों के लिए  कैशबैक योजना की पेशकश की है।

    बैंक के बयान में कहा गया है कि इस योजना के तहत नया आवास ऋण लेने वाले या मौजूदा ऋण को उसके यहां स्थानांतरित करने वाले ग्राहक को 20 प्रतिशत (10,000 रुपये तक का ) कैशबैक मिलेगा।

    यह कैशबैक राशि ग्राहक के आईसीआईसीआई क्रेडिट या डेबिट कार्ड से 30,000 रुपये के न्यूनतम खर्च पर आधारित है। बैंक के अनुसार यह पेशकश 1 सितंबर 2017 से 30 नवंबर 2017 तक रहेगी।

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...