National
  • युवाओं को गैर शासकीय क्षेत्र में भी रोजगार के अवसर मुहैया करवाये जाएंगे
    PUBLISHED : Nov 24 , 8:29 AM

  • युवाओं के उद्यमी ऋण का ब्याज पाँच वर्ष तक राज्य सरकार भरेगी
    प्रदेश के सभी भूमिहीनों के पास 14 अप्रैल 2018 के पहले भूमि
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अनूपपुर जिले को दी 336 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के युवाओं को गैर शासकीय क्षेत्रों में भी रोजगार के अवसर मुहैया करवाये जायेंगे। इसके लिये युवाओं को समुचित प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि युवा उद्यमी योजना में उद्यम स्थापित करने के लिये युवाओं के ऋण का ब्याज पाँच वर्ष तक राज्य सरकार भरेगी। श्री चौहान ने युवाओं से अपील की कि उद्यम स्थापित कर मध्यप्रदेश के विकास में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज अनूपपुर जिले के जैतहरी में विकास यात्रा तथा कौशल विकास-सह-अन्त्योदय मेले को संबोधित कर रहे थे।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पैदा हुआ कोई व्यक्ति अब भूमिहीन नहीं रहेगा। मध्यप्रदेश में जन्मे सभी भूमिहीन व्यक्तियों को प्रदेश सरकार भूमि मुहैया कराएगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 14 अप्रैल 2018 से पूर्व सभी भूमिहीनों के पास भूमि होगी। इसके लिये मध्यप्रदेश में विशेष अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना एक अभिनव योजना है। इस योजना में मध्यप्रदेश में बड़ी संख्या में आवास बनाये जा रहे हैं, जिसका लाभ प्रदेश के लोगों को ही मिलेगा।

    तेंदूपत्ता संग्राहकों को जूते, चप्पल, पानी की कुप्पी मुहैया कराने चलेगा अभियान

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तेंदूपत्ता संग्राहकों को जूते, चप्पल और पानी की कुप्पी मुहैया कराने के लिये प्रदेश में शीघ्र ही अभियान चलाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जैतहरी क्षेत्र के लोगों की समस्याओं का तेजी से निराकरण किया जा रहा है। श्री चौहान ने अनूपपुर जिले में 336 करोड़ रूपये से अधिक लागत की सड़कों और अन्य विकास कार्यों का भूमि-पूजन एवं शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि अनूपपुर जिले को किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं रखा जायेगा।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के 3500 हितग्राहियों को 15 करोड़ रूपये अधिक के हितलाभों का वितरण किया। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने कन्या-पूजन और पं. दीनदयाल के छायाचित्र पर माल्यार्पण किया।

    कार्यक्रम में प्रभारी मंत्री श्री संजय सत्येन्द्र पाठक, सांसद श्री ज्ञान सिंह एवं श्री प्रभात झा, विधायक श्री रामलाल रोतेल, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रूपमती सिंह, विन्ध्य विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री रामदास पुरी, अन्त्योदय समिति सदस्य श्री ओमप्रकाश द्विवेदी, अन्य जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।
    दुर्गेश रायकवार

  • महिला अपराधों की रोकथाम के लिये संवेदनशीलता और तत्परता से कार्रवाई करें
    PUBLISHED : Nov 22 , 7:39 AM

  • साईबर अपराधों से निपटने के लिये जिला स्तर पर व्यवस्था करें
    अपराधों पर नियंत्रण के लिये संभागवार रणनीति बनायें
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आई.जी.-डी.आई.जी. कान्फ्रेंस में दिये निर्देश
     

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिला अपराधों की रोकथाम के लिये संवेदनशीलता और तत्परता से कठोर कार्रवाई करें, जिससे अपराधियों में डर पैदा हो। अपराधों पर नियंत्रण के लिये संभागवार रणनीति बनायी जाये। साईबर अपराधों से निपटने के लिये जिला स्तर पर सुदृढ़ व्यवस्था करें। चिटफंड कंपनियों की धोखाधड़ी रोकने के लिये जागरूकता अभियान चलायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ पुलिस मुख्यालय में आई.जी.-डी.आई.जी. कान्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह भी उपस्थित थे।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पुलिस हर चुनौती का सामना करने में खरी उतरी है। इसकी उपलब्धियाँ गर्व करने के लायक हैं। कानून व्यवस्था ऐसा क्षेत्र है जिसमें लगातार नई चुनौतियाँ सामने आती रहती हैं। जिस तेजी से तकनीक का विकास हो रहा है, उसी क्रम में अपराध के तरीके भी बदलते जा रहे हैं। साईबर क्राईम एक नई चुनौती के रूप में समाज में पनप रहा है। हमें इसे सख्ती से रोकना होगा। इसके लिये महिला छात्रावास, कॉलेज, स्कूल, कोचिंग सेंटर जैसे स्थानों पर लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जाये। श्री चौहान ने कहा कि बीट स्तर तक की टीम लगातार गश्त करें। क्षेत्र में पुलिस की प्रभावी उपस्थिति रहे। संसाधनों का उचित उपयोग कर लोगों में सुरक्षा का विश्वास पैदा करें।

    जनता को हेल्पलाईन नंबर और ई-कॉप जैसी सुविधा की व्यापक जानकारी दें

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि जनता को हेल्पलाईन नंबर और ई-कॉप जैसी सुविधा की व्यापक जानकारी दें। छात्राओं को आत्मरक्षा के लिये प्रशिक्षण दें और जागरूक बनायें। पुलिस बल के अलावा ग्राम तथा नगर सुरक्षा समितियों, एन.सी.सी., एन.एस.एस., शौर्या बल, तेजस्विनी समूह और स्व-सहायता समूहों की मदद लें। सभी जिलों में वन स्टॉप सेंटर स्थापित करें। स्कूली बसों में ड्राईवर-कंडक्टरों का चरित्र सत्यापन अनिवार्य रूप से किया जाये तथा स्कूली बसों में महिला कंडक्टर होने के नियम का सख्ती से पालन करायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूली बसों में सीसीटीव्ही कैमरे समय-सीमा में लगाये जायें। सभी महिला छात्रावासों में रसोईया और सफाईकर्मी महिलाएं हों। महिला छात्रावासों के प्रवेश वाले रास्ते पर सीसीटीव्ही कैमरे लगाये जायें। आगामी विधानसभा सत्र में जनसुरक्षा विधेयक लाया जाये।

    मादक पदार्थो की रोकथाम की विशेष रणनीति बनायें

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि साम्प्रदायिक घटनाओं को रोकने के लिये कई जिलों ने अच्छा काम किया है। इस तरह के मामलों में लगातार सतर्कता बनाये रखें। पुलिस विभाग की अलग-अलग शाखाओं और अन्य विभागों में समन्वय को और बेहतर बनायें। पारदर्शी और भ्रष्टाचारमुक्त व्यवस्था के लिये बीस वर्ष की सेवा तथा पचास वर्ष की आयु वाले निष्क्रिय और गलत रिकार्ड वाले अमले की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रकरण बनायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने रेत उत्खनन नीति में परिवर्तन किये हैं। इससे लोगों को जरूरत के अनुसार सहजता से रेत मिलेगी तथा रोजगार के अवसर भी बढ़ेगे। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग रेत के अवैध उत्खनन को रोकने की कार्रवाई जारी रखें। मादक पदार्थो की रोकथाम की विशेष रणनीति बनायें। बड़े अपराधियों पर सख्त कार्रवाई करें। खरगौन-बड़वानी जिले में अवैध कारोबार में लिप्त सिकलीगरों को रोजगार से लगाने की योजना बनायें।

    हर जिले में साईबर सुरक्षा के लिये विशेष सेल

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि साईबर सुरक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनायें। हर जिले में साईबर सुरक्षा के लिये विशेष सेल बनायें। सी.एम. हेल्पलाईन के प्रकरणों में प्रभावी कार्रवाई करें। इलेक्ट्रानिक मीडिया में आने वाले भ्रामक विज्ञापनों पर कानूनी प्रावधान के तहत कार्रवाई करें। एन.एस.ए. तथा जिलाबदर की प्रभावी कार्रवाई करें। सूदखोरी को रोकने के लिये सख्त कानूनी कार्रवाई करें। आदिवासी क्षेत्रों में बेटियों की गुमशुदगी के प्रकरणों में विशेष ध्यान देकर कार्रवाई करें। गौ-वंश की अवैध निकासी रोकने के लिये कार्रवाई करें। प्रदेश में कानून व्यवस्था और शांति का वातावरण रखने के लिये पुलिस विभाग बेहतर कार्रवाई जारी रखे।

    पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला ने बताया कि अगले वर्ष की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुये अपराधों पर नियंत्रण की कार्य-योजना बनाई गई है। अगले तीन वर्षों में प्रत्येक थाने में दो-दो महिला आरक्षकों की पदस्थापना की जायेगी। थानों में महिला रेस्ट रूम की व्यवस्था भी की जायेगी। गौवंश की अवैध निकासी को रोकने के लिये प्रदेश की सीमा से आने-जाने वाले रास्तों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है।

    इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्टेटेस्टिकल डाटा - 2017 का विमोचन किया। बैठक में पुलिस मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारीगण तथा प्रदेश के आई.जी.-डी.आई.जी. उपस्थित थे।
    एस.जे.

  • भावांतर भुगतान योजना पर पूरे देश की निगाहें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
    PUBLISHED : Nov 21 , 8:19 AM
  • भावांतर भुगतान योजना पर पूरे देश की निगाहें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
    1,35,000 किसानों को 22 नवम्बर को होगा भावांतर राशि का भुगतान
    मुख्यमंत्री की जिला कलेक्टरों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा विस्तृत चर्चा

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भावांतर भुगतान योजना किसानों के हित संरक्षण की अद्भुत योजना है। इस पर पूरे देश की निगाहें हैं। उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये हैं कि किसानों की उपज के भावांतर की सही राशि किसानों के खातों में पहुंचाना सुनिश्चित करें। इस योजना के अंतर्गत पहला भुगतान एक लाख 35 हजार से ज्यादा किसानों को 22 नवम्बर को एक साथ होगा।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला कलेक्टरों से भावांतर भुगतान योजना के संबंध में विस्तृत चर्चा कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से स्पष्ट कहा कि पूरी सतर्कता के साथ भावांतर भुगतान की सभी औपचारिकताएं समय पर पूरी कर ली जायें ताकि किसानों को उनकी उपज की सही राशि का समय पर भुगतान मिल सके। इसमें किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। जिन किसानों ने इस योजना के अंतर्गत 16 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच अपनी उपज बेची है, उन्हें 22 नवम्बर को उनके खातों में सीधे भुगतान होगा। उन्होंने कहा कि जो किसान पंजीयन नहीं करा पाये थे, उन्हें 15 से 22 नवम्बर तक पंजीयन की सुविधा दी गई है।

    श्री चौहान ने होशंगाबाद, हरदा, भोपाल, देवास, सीहोर एवं नरसिंहपुर जिले में उड़द के कम भाव आने पर कलेक्टरों से कहा कि वे कृषि उपज मण्डियों का भ्रमण कर इसका जायजा लें। आवश्यक होने पर बोली निरस्त करें, जिससे किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिलना सुनिश्चित हो। उन्होंने पोर्टल पर जानकारी अपलोड और सत्यापन करने के निर्देश दिये ताकि समय पर भुगतान किया जा सके। श्री चौहान ने खरीफ फसल की बीमा राशि किसानों को मिलना सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इसमें कोई कमी नहीं रहे। यह योजना किसानों के लिये संजीवनी की भांति है। इसके अंतर्गत लगभग आठ हजार करोड़ रूपये किसानों को भुगतान होगा।

    प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा ने बताया गया कि भावांतर भुगतान योजना क्रियान्वित होने से मण्डियों में आवक बढ़ी है। साथ ही अन्य प्रदेशों से मध्यप्रदेश के किसानों को उनकी उपज का ज्यादा दाम भी मिल रहा है। खरीदी की पूरी चाक-चौबंद व्यवस्थाएं की गई हैं। सभी मण्डियों में मॉडल रेट भी प्रदर्शित किये गये हैं। बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीना एवं अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित थे।
    चौधरी

  • युवा उद्यमियों के सहयोग से म.प्र. को स्टार्टअप कंपनियों का हब बनायेंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान
    PUBLISHED : Nov 19 , 9:24 AM

  • स्टार्टअप कंपनियाँ चलाने वाले उद्यमियों ने सुनाये अनुभव
    सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्यम सम्मेलन का समापन

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि युवा उद्यमियों के सहयोग से मध्यप्रदेश को स्टार्टअप कंपनियों का हब बनाया जायेगा। उन्होंने युवा उद्यमियों का आव्हान किया कि वे अपने बिजनेस आइडिया को मरने न दें। सरकार नवाचारी विचार और प्रयासों को वेंचर केपिटल फंड के माध्यम से प्रोत्साहित करेगी।

    श्री चौहान आज यहाँ दो दिवसीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम एवं स्व-रोजगार सम्मेलन में स्टार्टअप और इन्क्यूबेशन केन्द्र पर आधारित सत्र को संबोधित कर रहे थे।

    श्री चौहान ने युवाओं से आग्रह किया कि वे अपनी शक्ति और प्रतिभा को पहचाने। सफलता अवश्य मिलेगी। उन्होंने कहा कि युवा उद्यमियों के सहयोग से मध्यप्रदेश में लघु उद्योगों का विस्तार किया जायेगा। इससे रोजगार के असंख्य अवसर पैदा होंगे। उन्होंने युवाओं से कहा कि राम भक्त हनुमान की तरह अपनी शक्ति पहचानो। रोजगार सृजन सरकार की पहली प्राथमिकता है लेकिन यह काम युवा उद्यमियों के सहयोग से ही संभव होगा।

    श्री चौहान ने कहा कि युवा उद्यमियों के सहयोग से मध्यप्रदेश का नया इतिहास लिखा जायेगा। युवाओं के प्रदेश मध्यप्रदेश का स्वर्णिम भविष्य भी युवा जनशक्ति और सरकार मिलकर बनायेगी।

    श्री चौहान ने संबंधित अधिकारियों को युवा उद्यमियों के लिये एक हेल्पलाइन बनाने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके जरिये उन्हें सभी प्रारंभिक जानकारी मिलेगी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को वेंचर केपिटल फंड के महत्व और संचालन की जानकारी देने की व्यवस्था की जायेगी।

    मुम्बई में स्टार्टअप कंपनी स्थापित करने वाली श्रेया मिश्रा ने अपनी कंपनी की प्रगति यात्रा और अनुभव सुनाते हुए युवा उद्यमियों से कहा कि नये विचार के लिये आलोचना झेलने को भी तैयार रहे। मुम्बई में ऑनलाइन फैशन कंपनी फ्लाईरोब डॉट काम का संचालन कर रही श्रेया मिश्रा ने कंपनी बनाने के प्रारंभिक विचार, फंड की व्यवस्था और कंपनी में निवेश, मार्गदर्शन, बाजार की रुचि, लोगों की पसंद के बारे में जानकारी दी। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा स्टार्टअप कंपनियों को बढ़ावा देने के लिये स्थापित वेंचर केपिटल फंड की सराहना करते हुए कहा कि इससे उद्यमिता को बढ़ावा मिलेगा।

    वेंचर केपिटल फंड के प्रबंध संचालक श्री संदीप कड़वे और इन्क्यूवेशन केंद्र हैदराबाद के श्री अजय जैन ने उद्यमियों के सवालों के जबाव दिये और उनका मार्गदर्शन किया। इस अवसर पर सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्योग राज्य मंत्री श्री संजय पाठक, प्रमुख सचिव एमएसएमई श्री वी. एल. कान्ता राव एवं उद्योग समूहों के प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में उद्यमी उपस्थित थे।

    इससे पहले मुख्यमंत्री ने युवा उद्यमियों की कंपनी द्वारा निर्मित उत्पादों की प्रदर्शनी का अवलोकन किया और उनका हौसला बढ़ाया। उन्होंने कहा कि सरकार हर कदम पर युवा उद्यमियों को सहयोग देगी।
    ए.एस.

  • राम मंदिर: आज अयोध्या जाएंगे श्री श्री रविशंकर,संतों से करेंगे मुलाकात
    PUBLISHED : Nov 16 , 8:14 AM




  • आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के संस्थापक व आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर आज अयोध्या में श्रीरामजन्मभूमि विवाद के कई पक्षकारों से मिलेंगे। वह लखनऊ से चलकर सड़क मार्ग से पूर्वाह्न 10 बजे अयोध्या पहुंचेंगे और सीधे मणिराम छावनी जाएंगे। वहां श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास महाराज सहित अन्य संतों से भेंट कर रामजन्मभूमि बनाम बाबरी मस्जिद विवाद के सम्बन्ध में सभी संतों की राय जानेंगे। इसके साथ ही वह मुस्लिम पक्षकारों से भी भेंट करने उनके आवास जाएंगे।

    भक्तों से करेंगे मुलाकात

    इसके उपरांत तोताद्रि मठ में वह अपने भक्तों से भेंट करेंगे। देर शाम वह लखनऊ वापस जाएंगे। इससे पहले उनके आगमन के मौके पर अधिकांश संतों का समर्थन जुटाने का प्रयास बंगलुरु से आए उनके प्रतिनिधि स्वामी भव्य तेज की ओर से किया गया। इसी सिलसिले में उन्होंने दिगम्बर अखाड़ा में महंत सुरेश दास व दंतधावन कुंड के महंत नारायणाचारी के साथ संत समिति के अध्यक्ष व सनकादिक आश्रम के महंत कन्हैया दास रामायणी व रामायणी रामशरण दास के अलावा अन्य संतों से भेंट की। इसके साथ ही वह गुरुदेव को रिसीव करने के लिए लखनऊ रवाना हो गए। इस बीच बाबरी मस्जिद के पैरोकार हाजी महबूब के भी लखनऊ पहुंचने की खबर है।

    रविशंकर के पहुंचने से बढ़ीें उम्मीदें

    हालांकि महबूब ने हिन्दुस्तान से दूरभाष पर बातचीत में कहा कि वह दिल्ली में अपने अधिवक्ता से भेंट करने गए थे और वहीं से वापस लौट रहे हैं। उनकी फ्लाइट देर शाम लखनऊ पहुंचेगी। इससे पहले आध्यात्मिक गुरु के आगमन को लेकर निर्मोही अखाड़ा की उम्मीदें खासी बढ़ गई हैं। दरअसल अयोध्या आगमन से पहले बंगलुरु में ही पिछले दिनों श्रीश्री रविशंकर ने निर्मोही अखाड़ा के महंत दिनेन्द्र दास समेत अखाड़े के अन्य प्रतिनिधियों व सुन्नी सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड से जुड़े प्रतिनिधियों को भी आमन्त्रित किया था। दोनों पक्षों के प्रतिनिधियों की अंदरखाने हुई वार्ता में निर्मोही अखाड़ा को मुख्य पक्षकार के रूप में स्वीकार कर लिया गया।

    सूत्र यह भी बताते हैं कि सुन्नी सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड के प्रतिनिधियों ने विश्व हिन्दू परिषद के खिलाफ निर्मोही अखाड़ा के साथ खड़े होने के लिए अपनी सहमति प्रदान कर दी है। अखाड़े के महंत दिनेन्द्र दास भी इसकी पुष्टि करते हैं। उनका कहना है कि सुन्नी बोर्ड सशर्त समझौते के लिए राजी है लेकिन पहले उसे सरकार के पक्ष से आश्वासन दिया जाना चाहिए। उधर मूल पक्षकार एवं अखिल भारतीय श्रीपंच रामानंदीय निर्वाणी अखाड़ा के महंत धर्मदास का कहना है कि फिलहाल उनकी क्या योजना है, इसका उनकी ओर से खुलासा हो जाए तभी आगे बात की जा सकती है। इसके पहले कुछ भी कहने-सुनने का कोई औचित्य नहीं है।

    विरोध में मुखर हुए महंत ज्ञानदास

    अखिल भारतीय षड्दर्शन अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष एवं हनुमानगढ़ी सागरिया पट्टी के महंत ज्ञानदास आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर के खिलाफ मुखर हो गए हैं। उन्होंने कहा कि 30 सितम्बर 2010 को हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ की ओर से फैसला आने से पहले वह हाशिम अंसारी के साथ समझौता वार्ता कर उन्हें मनाने में कामयाब हो गए थे। उन्होंने बताया कि उनके साथ दूसरे अन्य पक्षकार भी हमारे समझौते के फार्मूले पर राजी थे।

    उसी समय तत्कालीन विहिप सुप्रीमो अशोक सिंहल के कहने पर श्रीश्री रविशंकर ने उन्हें अपने दूत के माध्यम से बंगलुरु आने का निमन्त्रण देकर बुला लिया और मुझसे समझौता वार्ता रोकने का आग्रह करने लगे। उन्होंने समझौते का विरोध करते हुए विहिप के ही तर्कों को मेरे सामने भी रखा था लेकिन जब मैने इंकार कर दिया और वापस चला आया तो इन्हीं लोगों ने मिलकर मुस्लिम पक्ष पर दबाव डालकर हाशिम अंसारी को पैर पीछे खींचने के लिए मजबूर कर दिया था। महंत श्री दास का कहना है कि उस समय जब श्रीश्री रविशंकर समझौते के खिलाफ थे तो आज कौन सी नई परिस्थिति पैदा हो गई है। 

    सीएम योगी से मिले रविशंकर

    अयोध्या विवाद का सहमति से हल निकालने को प्रयासरत आध्यात्मिक गुरु और आर्ट आफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने बुधवार को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर भेंट की। दोनों के बीच करीब आधे घंटे तक बातचीत हुई मगर इस बातचीत का ब्योरा सार्वजनिक नहीं किया गया। अन्य जगह पर पत्रकारों से बातचीत में रविशंकर ने कहा कि मेरे पास समाधान का कोई प्रस्ताव नहीं है, सभी पक्षों से खुले दिल से बातचीत करेंगे। मुख्यमंत्री के अलावा श्री श्री रविशंकर की बुधवार को लखनऊ में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ, विहिप, शिवसेना के कई प्रतिनिधियों से भी बातचीत हुई। इनमें रसिक पीठाधीश्वर महंत जन्मेजय शरण और आचार्य चक्रपाणि आदि प्रमुख थे।

  • सभी जिलों और तहसीलों में समाधान-एक दिन व्यवस्था लागू होगी
    PUBLISHED : Nov 15 , 8:33 AM

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाधान ऑन लाइन में दिये लापरवाह अधिकारियों-कर्मचारियों के विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश


    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में समाधान ऑन लाइन के तहत वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से आवेदकों के प्रकरणों का निराकरण करते हुये लापरवाही पाये जाने पर लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता के निलंबन सहित अन्य अधिकारियों-कर्मचारियों के विरूद्ध कार्रवाई करने के निर्देश दिये। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सभी जिलों और तहसील मुख्यालयों में समाधान-एक दिन व्यवस्था आगामी 15 दिसम्बर से शुरू की जाये। इसमें ऐसी सेवायें शामिल की जायेंगी़, जिनमें अभिलेख सत्यापन की आवश्यकता नहीं होती हो। ये सेवायें लोक सेवा केन्द्र से आवेदन के दिन ही प्रदाय की जायेंगी। अनुसूचित जाति-जनजाति के विद्यार्थियों को डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने पर आवास भत्ता योजना का लाभ दिया जाये। लोक सेवा केन्द्र में राजस्व की सेवाओं के‍लिये स्टाम्प शुल्क लेने की व्यवस्था को समाप्त किया जाये। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे।

    राजगढ़ जिले के ग्राम कनडरा कोटरी के श्री जगन्नाथ प्रजापति के आवेदन जिसमें लोक निर्माण विभाग द्वारा बोड़ा से बरखेड़ा मार्ग निर्माण के लिये भूमि अधिग्रहण का मुआवजा नहीं मिला था, पर लोक निर्माण विभाग द्वारा बताया गया कि आवेदक की मुआवजा राशि त्रुटिवश किसी अन्य खाते में जमा हो गयी थी। इस प्रकरण में विलम्ब के लिये जिम्मेदार कर्मचारी को निलंबित कर दिया गया है तथा तीन अधिकारियों-कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस दिया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सी.एम.हेल्प लाइन के इस प्रकरण को फोर्स्ड क्लोस्ड करने वाले विभाग के मुख्य अभियंता को निलंबित किया जाये। ग्वालियर जिले के डबरा की सुश्री हेमलता शाक्य ने बताया कि उन्होंने नर्सिंग कॉलेज में अध्ययन किया है परन्तु उन्हें आवास भत्ते की राशि नहीं मिली है। संबंधित विभाग द्वारा बताया गया है कि छात्रा डिप्लोमा पाठयक्रम में अध्ययनरत है। इसलिये नियमों के तहत उन्हें आवास भत्ते की पात्रता नहीं है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि नियमों में परिवर्तन किया जाये तथा डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाले अनुसूचित जाति-जनजाति के विद्यार्थियों को भी योजना का लाभ दिया जाये। भोपाल के श्री अनिश कुरैशी के हमीदिया चिकित्सालय में नि:शुल्क दवाई नहीं मिलने के आवेदन की मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जाँच कराने के निर्देश‍दिये। साथ ही हमीदिया चिकित्सालय में नि:शुल्क दवाई वितरण व्यवस्था की आकस्मिक जाँच करने के निर्देश दिये। आगर मालवा जिले के ग्राम गुराड़िया के दिव्यांग युवा श्री बलराम पुत्र श्री अमर सिंह के स्वरोजगार योजना में ऋण स्वीकृत नहीं करने तथा बाद में कम ऋण स्वीकृत करने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस संबंध में संबंधित बैंक के वरिष्ठ अधिकारी को पत्र लिखकर कार्रवाई कराने के निर्देश दिये। इंदौर जिले की श्रीमती आशा सैनी को पति के निधन के बाद लोकतंत्र सेनानी की सम्मान निधि नहीं मिलने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि आवेदन को दो वर्ष तक लंबित रखने के लिये एजीएमपी, ग्वालियर को जाँच के लिये निर्देश दिये। इंदौर जिले के श्री दीपू मौर्य को आईटीआई से प्रशिक्षण प्राप्त करने बाद भी प्रमाण पत्र नहीं होने के आवेदन पर मुख्यमंत्री ने संबंधित आईटीआई के प्राचार्य की विभागीय जाँच करने तथा इस तरह के सभी प्रकरणों की जाँच के निर्देश दिये। कटनी जिले से ग्राम ढ़ीमरखेड़ा के श्री शैलेन्द्र सिंह और श्री प्रदीप विश्वकर्मा द्वारा कौशल विकास केन्द्र उमरिया पान में प्रशिक्षण की व्यवस्था नहीं होने से परीक्षा परिणाम में विलम्ब के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संबंधित असेसिंग संस्था को ब्लेक लिस्ट करने के निर्देश दिये। भिण्ड जिले के ग्राम बुजुर्ग मौता के श्री कमलेश जाटव द्वारा पटटे की भूमि राजस्व अभिलेख में दर्ज नहीं होने के कारण किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संबंधित तहसीलदार के विरूद्ध निलंबन की कार्रवाई करने के निर्देश दिये। नीमच जिले के ग्राम हतुनिया के श्री विष्णु धनगर के तालाब निर्माण की द्वितीय किश्त विलम्ब से मिलने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विलम्ब के लिये कृषि विभाग के जिम्मेदार संबंधित अधिकारियों की जाँच के निर्देश दिये। शहडोल जिले के ग्राम बलबहरा के श्री गुरू प्रसाद पाण्डे को नहर निर्माण में अधिग्रहित भूमि का मुआवजा नहीं मिलने तथा रतलाम जिले की श्रीमती माधुरी भाटी और श्रीमती राजरत्ना राठौर को विवाह पंजीयन क्रमांक पत्र समय से नहीं मिलने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जाँच के निर्देश दिये। जिला अशोकनगर के ग्राम खेजरा खुर्द की श्रीमती गुडडी बाई अहिरवार को उज्जवला योजना के तहत विलम्ब से गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि ग्रामीण क्षेत्रों में योजना के क्रियान्वयन पर विशेष ध्यान दिया जाये तथा पात्र हितग्राहियों को गैस रिफिल कराने में दिक्कत नहीं हो, इसकी व्यवस्था की जाये।

    स्वरोजगार योजनाओं का लाभ दिलाने का विशेष अभियान

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सभी जिलों में स्वरोजगार की योजनाओं में युवाओं को लाभ दिलाने के लिये विशेष अभियान चलाया जाये। स्वरोजगार की योजनाओं में लक्ष्य के अनुरूप प्रकरण बैंकों में भेजे जायें तथा लगातार फालोअप किया जाये। ग्रामीण क्षेत्रों में खेत में संबंधित किसानों द्वारा मकान बनाये जाने पर डायवर्सन शुल्क नहीं लिया जाये। लोक सेवा केन्द्रों से समय-सीमा में बिना किसी दिक्कत के लोगों को सेवायें उपलब्ध करायी जायें। उन्होंने कहा कि सुशासन राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। भावांतर भुगतान योजना में पूर्व में जिन किसानों ने पंजीयन नहीं कराया है, उनका पंजीयन आगामी 15 से 25 नवम्बर की बीच पोर्टल पर कराया जा सकेगा। श्री चौहान ने कहा कि यह सुनिश्चित करें कि सभी पात्र किसानों का पंजीयन हो जाये। पूर्व में 16 से 31 अक्टूबर के बीच मंडियों में फसल बेचने वाले 1 लाख 55 हजार पंजीकृत किसानों को आगामी 20 नवम्बर तक उनके खातों में भावांतर राशि पहुँचायी जाये। प्रत्येक जिले में आवासहीनों भू-अधिकार प्रमाण पत्र वितरण करने के लिये भू-अधिकार अभियान आगामी 26 जनवरी से 14 अप्रैल 2018 तक चलाया जायेगा। इसमें सुनिश्चित करें कि कोई भी पात्र व्यक्ति भूमिहीन नहीं रहे।

    बेहतर प्रदर्शन करने वाले जिलों और अधिकारियों की सराहना

    इस दौरान सी एम हेल्प लाइन में बेहतर प्रदर्शन करने वाले पाँच जिलों इंदौर, बैतूल, अलिराजपुर, बुरहानपुर और रतलाम को, पाँच जिला पंचायतों अलिराजपुर, बैतूल, बुरहानपुर, मंडला और सिवनी को तथा पाँच नगर निगमों रतलाम, सिंगरौली, भोपाल, छिंदवाड़ा और रीवा को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बधाई दी। इसी तरह गृह विभाग से संबंधित सी एम हेल्प लाइन की शिकायतों के निराकरण में भिण्ड, नीमच, सिवनी, डिण्डौरी और मुरैना तथा वन विभाग से संबंधित शिकायतों के निराकरण में बड़वानी, शाजापुर, झाबुआ, देवास और नीमच जिले को बधाई दी। साथ ही सी एम हेल्प लाइन के प्रकरणों के निराकरण में बेहतर प्रदर्शन करने वाले अधिकारी -कर्मचारियों में सागर जिले के सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी श्री यशवंत धनौरा, नरसिंहपुर जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के सहायक यंत्री श्री रंजन सिंह ठाकुर, नगर निगम भोपाल के सहायक स्वास्थ्य अधिकारी श्री राजीव सक्सेना,मंदसौर जिले के ऊर्जा विभाग के कनिष्ठ अभियंता श्री एन.के.प्रजापति, खण्डवा जिले के परिवहन विभाग के अपर संचालक श्री जगदीश प्रसाद बिल्लोरे और रीवा जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के सहायक यंत्री श्री एचएल पटेल, अशोकनगर जिले के कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी श्री महावीर राठौर, नगर निगम उज्जैन के स्वास्थ्य अधिकारी श्री बी.एस. मेहते, बालाघाट जिले के ऊर्जा विभाग के कनिष्ठ अभियंता श्री मदन लाल कश्यप और नरसिंहपुर जिले की उपायुक्त सहकारिता श्रीमती शकुंतला ठाकुर को बधाई दी।
    एस.जे.

  • संत कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद
    PUBLISHED : Nov 11 , 5:24 AM

  • संत कबीर ने समाज में समानता को बढ़ाने का काम किया : राज्यपाल श्री कोहली
    दो विश्वविद्यालयों में कबीर सृजन पीठ की स्थापना होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

    राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने कहा है कि संत कबीर ने अन्याय और आडम्बर से मुक्त समानता पर आधारित समाज का ताना-बाना बुना था। उनकी शिक्षा समाज के लिये संजीवनी है। वे गहरे अर्थों में निर्बल लोगों के पक्षधर थे। वे संत से बड़े समाज सुधारक थे। राष्ट्रपति श्री कोविंद आज यहाँ लाल परेड मैदान पर सदगुरू कबीर महोत्सव को संबोधित कर रहे थे।

    राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा है कि संत कबीर ने अंधविश्वास और पाखण्ड पर कठोर प्रहार किया था। संविधान में न्याय, समानता और बंधुत्व के आदर्श कबीर से प्रेरित है। संत कबीर मानव प्रेम के पक्षधर थे। संत कबीर की वाणी का उल्लेख गुरू नानक ने गुरू ग्रंथ साहिब में किया है। संत कबीर की शिक्षा समानता और समरसता की है। साहस के साथ अंध विश्वास को समाप्त करना ही निर्भीकता है। कबीर ने अपने जीवन में इसका उदाहरण प्रस्तुत किया था। उन्होंने आव्हान किया कि मानवता से प्रेम करने के आदर्श पर चलकर देहदान करें। मानव अंगों के दान से कई लोगों को जीवन मिल सकता है।

    समावेशी और संवेदनशील सोच पर आधारित विकास

    राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा कि संत कबीर के जीवन का मुख्य संदेश सबको समानता के साथ आगे बढ़ने का अवसर देना है। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार इसी दिशा में समावेशी विकास के लिये कार्य कर रही है। आर्थिक विकास में सफलतम प्रदेश मध्यप्रदेश में सबको विकास के अवसर उपलब्ध कराये गये हैं। प्रदेश की जीडीपी एक लाख करोड़ रूपये से बढ़ कर पाँच लाख करोड़ रूपये तक पहुँच गयी है। यह विकास समावेशी और संवेदनशील सोच पर आधारित है। इसी सोच से लाड़ली लक्ष्मी जैसी योजना बनी है। कृषि और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने उल्लेखनीय प्रगति की है। समाज के अंतिम व्यक्ति के विकास को ध्यान में रखकर योजनाएँ क्रियान्वित की जा रही हैं। संत कबीर का मध्यप्रदेश से गहरा नाता रहा है। प्रदेश के बाँधवगढ़ में उन्होंने लम्बा प्रवास किया था। वहाँ पर कबीर गुफा तीर्थ-स्थल है। मध्यप्रदेश की हर हिस्से की अपनी गौरव गाथा है। यहाँ साँची में बौद्ध स्तूप तथा अमरकंटक में प्रथम जैन तीर्थंकर श्री ऋषभदेव का मंदिर है। उज्जैन और ओंकारेश्वर में ज्योर्तिलिंग हैं। उज्जैन का सिंहस्थ कुंभ प्रसिद्ध है। मध्यप्रदेश की धरती ने संगीत सम्राट तानसेन, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शंकरदयाल शर्मा, पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी, नानाजी देशमुख, सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर और बाबा साहेब अंबेडकर जैसे अनगिनत रत्न पैदा किये है।

    कबीर एक निर्भीक संत थे

    राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली ने कहा है कि भारत धर्म प्रधान देश है। जिसमें साधु-संतों को समाज में आदर मिलता है। कबीर एक निर्भीक संत थे, जिन्होंने किताबी ज्ञान से परे हटकर अनुभवों के आधार पर सत्य का दर्शन करवाया। उन्होंने पाखण्डों का घोर विरोध किया और आँखिन देखी पर बल दिया। कबीर की वाणी कल्याणकारी और जीवन अनुभवों को सुदृढ़ करने वाली है। संत कबीर लोक कवि थे, जिन्होंने लोक जागरण किया। पुरानी रूढ़ियों को तोड़कर प्रगति के पथ पर बढ़ाने वाली विचारधारा के संत थे। उन्होंने समाज में समानता की भावना को बढ़ाने का काम किया।

    सामाजिक समरसता का संदेश

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि संत कबीर का दर्शन आज भी प्रासंगिक है। उनका यह दर्शन पूरे जीवन को बदल सकता है। साथ ही भौतिकता के अग्नि में दग्ध विश्व को शाश्वत शांति का दिग्दर्शन कराने में सक्षम हैं। संत कबीर ने समानता और सामाजिक समरसता का संदेश दिया है। संत कबीर ने जाँत-पाँत को महत्व न देते हुए ज्ञान और प्रेम को महत्व दिया है। उन्होंने रूढ़ियों और पाखण्डों का विरोध किया। श्री चौहान ने संत कबीर के दोहे और साखियों का उल्लेख करते हुए कहा कि भगवान उसी तरह हर घट में रहते हैं जिस तरह मेहंदी के पत्तों में लाल रंग छिपा रहता है। यदि कहीं भगवान हैं तो गरीबों में हैं। गरीब की सेवा ही भगवान की पूजा है। उसी के अनुसार मध्यप्रदेश सरकार गरीबों के कल्याण का कार्य कर रही है।

    श्री चौहान ने कहा है कि गरीबों के रोटी-कपड़ा और मकान तथा उनके बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और दवाई के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। मध्यप्रदेश एक मात्र राज्य है जहाँ हर आवासहीन को भूखण्ड प्रदाय का कानून बनाया गया है। उन्होंने कहा कि सभी गरीबों को चार वर्ष में पक्के मकान मुहैया करवाये जायेंगे। अनुसूचित जाति, जनजाति सहित सभी गरीबों को एक रूपये किलो गेहूँ और चावल मुहैया करवाया जा रहा है। पैसों के अभाव में कोई विद्यार्थी शिक्षा से वंचित न रहे इसके लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी सहायता योजना शुरू की गई है। शहरों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को रहने के कमरे का किराया तथा विदेश अध्ययन के लिये छात्रवृत्ति भी उपलब्ध करवायी जा रही है।

    हर वर्ष डेढ़ लाख युवाओं को स्व-रोजगार के लिये मदद

    मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्ञानोदय, श्रमोदय, एकलव्य, विद्यालयों का जाल बिछाया जायेगा। मध्यप्रदेश के अनुसूचित जाति-जनजाति के ड़ेढ़ लाख युवाओं को हर वर्ष रोजगार के लिये ऋण-अनुदान सहायता तथा पाँच वर्ष तक पाँच प्रतिशत ब्याज अनुदान मुहैया करवाया जायेगा। एक लाख बच्चों को स्व-रोजगार के लिये मदद दी जायेगी। तीन वर्षों में तीन लाख युवाओं को कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिया जायेगा। संत कबीर के दर्शन पर शोध के लिये दो विश्वविद्यालय में कबीर सृजन पीठ की स्थापना की जायेगी। आत्मा का गान करने वाली कबीर भजन मंडलियों को एकतारा के लिये सहायता दी जायेगी। प्रदेश में स्थित कबीर चौराहों, मठों का पुनउद्धार किया जायेगा। हर वर्ष कबीर महाकुंभ का आयोजन किया जायेगा तथा कबीर के विचारों को आगे बढ़ाने वाले स्वैच्छिक संगठनों को सहायता दी जायेगी। कबीर की जन्म-स्थली को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में शामिल किया जायेगा।

    अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने कार्यक्रम की रूपरेखा बताई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सामाजिक समरसता का संदेश देने का काम राज्य सरकार ने किया है। प्रदेश में गरीब, शोषित और पीड़ितों के कल्याण के लिये कई योजनाएँ बनाई गईं हैं। संत श्री असंगनाथ जी ने कहा कि कबीर ने कहा था कि अपने मन को निर्मल बना लो तो भगवान आपको ढूँढेगा। विचार करना आ जाये तो हर दु:ख दूर हो जायेगा। जो लोगों को जोड़ता है वहीं जीतता है। उन्होंने कहा कि सिंहस्थ महाकुंभ के दौरान की गई व्यवस्थाओं की पूरे देश में सराहना हुई है। स्वागत भाषण मध्यप्रदेश हस्तशिल्प विकास निगम के अध्यक्ष श्री नारायण प्रसाद कबीरपंथी ने दिया।

    कबीर सम्मान

    कार्यक्रम में राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कबीर सम्मान से तीन शब्द-शिल्पियों सर्वश्री रेवाप्रसाद द्विवेदी (बनारस), सुश्री प्रतिभा सत्पथी (भुवनेश्वर) और श्री के. शिवा रेड्डी (हैदराबाद) को सम्मानित किया। इन्हें पुरस्कारस्वरूप तीन लाख रूपये और सम्मान-पट्टिका भेंट की गयी। उन्होंने 'मध्यप्रदेश में कबीर' ग्रंथ का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द को गोंड चित्रकला की कृति भेंट की। मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह ने देश की प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविन्द को मध्यप्रदेश की मशहूर चंदेरी साड़ी भेंट की। कार्यक्रम में प्रसिद्ध गायक श्री प्रहलाद टिपाणिया और साथियों ने भजन प्रस्तुत किये।

    कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, सांसद एवं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, संस्कृति राज्य मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, सांसद सर्वश्री सत्यनारायण जटिया और चिंतामन मालवीय, श्री नारायण केशरी सहित बड़ी संख्या में कबीर पंथ के संत और अनुयायी तथा जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।
    चौधरी/ एस.जे.

  • कालेधन पर वार: हजारों रिटर्न और बेनामी संपत्तियां जांच के घेरे में, 20000 संदिग्ध ITR की जांच शुरू
    PUBLISHED : Nov 07 , 8:04 AM


  • आयकर विभाग 20 हजार से अधिक संदिग्ध आईटी रिटर्न की जांच कराएगा, वहीं बेनामी संपत्तियों पर भी सख्त कार्रवाई होगी।
    आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि नोटबंदी से पहले और बाद में इन लोगों के रिटर्न में भारी अंतर देखने को मिला है, जिसके बाद यह फैसला लिया गया है।  सूत्रों ने बताया कि विभाग ने 20,572 आईटी रिटर्न को विस्तृत जांच के लिए चुना है। इनके अलावा विभाग ने कर चोरी की सबसे अधिक आशंका वाले  एक लाख रिटर्न की भी पहचान की है, जिनकी जांच की जा सकती है।

    उन्होंने बताया कि आयकर विभाग लोगों से रिकॉर्ड जमा करता है। इसके बाद अधिकारी इन दस्तावेजों की समीक्षा कर यह सुनिश्चित करते हैं कि जानकारी गलत तो नहीं है या फिर कर चोरी तो नहीं की गई है। सूत्रों के मुताबिक विभाग ने इस साल 31 जनवरी को ‘ऑपरेशन क्लीन मनी ’चलाया था। इसका मकसद पिछले साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट चलन से बाहर किए जाने के बाद बैंकों में जमा कराए गए कालेधन का पता लगाना था।

    23.22 लाख संदिग्ध खातों की पहचान
    आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक विभाग ने नोटबंदी के बाद 23.22 लाख खातों में से 17.73 लाख संदिग्ध मामलों की पहचान की है। इनमें 3.68 लाख करोड़ रुपये की राशि जमा कराई गई। इन मामलों में संबंधित लोगों को नोटिस भेजा गया। इनमें से 11.8 लाख ने ऑनलाइन माध्यमों से जवाब दाखिल कर दिया है।
    बेनामी संपत्तियों पर सरकार सख्त, 1833 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त

    केंद्र सरकार ने बेनामी संपत्तियों के लेकर सख्त रुख अपना लिया है। सीबीडीटी के चेयरमैन सुशील चंद्र ने सोमवार को कहा कि आयकर विभाग बेनामी संपत्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई जारी रखेगा।
    सीबीडीटी के चेयरमैन ने कहा, मैं आपको यह आश्वासन दे सकता हूं कि यह जांच कभी बंद नहीं होगी। हम इस तरह की संपत्तियों के बारे में हर उपलब्ध स्रोतों से सूचना एसवं आंकड़े जमा कर रहे हैं। इस तरह की और भी संपत्तियों की पहचान की जाएगी और उन्हें जब्त किया जाएगा।
    आयकर विभाग ने बेनामी संपत्तियों के खिलाफ जारी कार्रवाई के तहत अब तक 1833 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने सोमवार को इसकी जानकारी दी। अक्तूबर तक उपलब्ध आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार 1833 करोड़ रुपये की 541 संपत्तियां जब्त की गईं। इसके लिए 517 से अधिक नोटिस जारी किए गए थे।
    सर्वाधिक मामले अहमदाबाद में
    बेनामी संपत्ति के सर्वाधिक 136 मामले अहमदाबाद में सामने आए। इसके बाद भोपाल में 93 मामले, कर्नाटक और गोवा में 76-76 मामले, चेन्नई में 72 मामले, जयपुर में 62 मामले, मुंबई में 61 मामले और दिल्ली में 55 मामले सामने आए।

    प्रधानमंत्री ने कड़ी कार्रवाई के संकेत दिए
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश में चार नवंबर को एक चुनावी रैली में भी बेनामी संपत्तियों पर लगातार कार्रवाई के संकेत दिए थे। उन्होंने कहा था कि नेताओं की बेनामी संपत्ति को भी छोड़ा नहीं जाएगा।
    -अब तक कार्रवाई -
    900 करोड़ की संपत्ति जब्त
    आयकर विभाग ने 9 नवंबर 2016 से लेकर मार्च 2017 तक 900 सर्वेक्षण किए। इस दौरान 900 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति जब्त की गई, जिनमें 636 करोड़ रुपये की नकदी शामिल है। इसके साथ ही 7,961 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता चला।
    शेल कंपनियों पर ताला
    2.24 लाख शेल कंपनियों का पंजीकरण रद्द किया जा चुका है।
    3.09 लाख शेल कंपनियों के डायरेक्टर्स को अयोग्य करार दिया जा चुका है।

    क्या है शेल कंपनी
    शेल कंपनी कालाधन को सफेद करने के लिए बनाई जाती है। ऐसी कंपनी जो सामान्य कंपनी की तरह मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स में रजिस्टर्ड होती है। कंपनी में निदेशक होते हैं, लेकिन ज्यादातर का कोई दफ्तर या कारोबार नहीं होता। कोई कर्मचारी नहीं होता। कागज पर कंपनी लाखों-करोड़ों का कारोबार दिखाती है।
    1238 करोड़ रुपये नकद नोटबंदी के बाद शेल कंपनियों में नवंबर, दिसंबर 2016 में जमा हुए।
    15 लाख कंपनियां देश भर में रजिस्टर्ड हैं
    09 लाख कंपनियां आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करतीं।

  • अमेरिका: टेक्सास के चर्च में गोलीबारी, 26 की मौत, हमलावर मारा गया
    PUBLISHED : Nov 06 , 8:07 AM

  • अमेरिका के टेक्सास प्रांत में एक बैपटिस्ट चर्च में हुई गोलीबारी में 26 लोगों की मौत हो जाने की सूचना है.
    वॉशिंगटन: अमेरिका के टेक्सास प्रांत में एक बैपटिस्ट चर्च में हुई गोलीबारी में 26 लोगों की मौत हो जाने की सूचना है. इस हमले में कई लोग घायल हुए हैं, जिनमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है. स्थानीय मीडिया की खबरों के मुताबिक, गोलीबारी सैन एंटोनियो के दक्षिण पूर्व में सुदरलैंड स्प्रिंग्स में फर्स्ट बैपटिस्ट चर्च में हुई है. शूटर स्थानीय समय के अनुसार सुबह करीब 11:30 बजे सदरलैंड स्प्रिंग्स स्थित बैपटिस्ट चर्च में घुसा और गोलीबारी शुरू कर दी. इस समय चर्च में कई लोग प्रार्थना कर रहे थे. एक निजी वेबसाइट की खबर के अनुसार घायलों में दो साल का एक बच्चा भी शामिल है.
    टेक्सास के गर्वनर ग्रेग एबॉट ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि गोलीबारी की घटना में अब तक 26 लोगों की मौत हुई है. आशंका है कि ये आंकड़ा बढ़ सकता है. ग्रेग ने कहा कि टेक्सास के इतिहास में यह सबसे भयावह गोलीबारी है.

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मरने वालों में दो साल के बच्चे से लेकर 72 साल के बुजुर्ग तक शामिल हैं. हमलावर ने सदरलैंड स्प्रिंग्स स्थित चर्च में घुसने से पहले बाहर फायरिंग की और गोलीबारी करते हुए अंदर प्रवेश किया. इस अंधाधुंध फायरिंग में कई लोगों की मौके पर ही मौत हो गई. हमलावर के चर्च से बाहर निकलने पर एक स्थानीय शख्स ने उसका सामना किया और उससे बंदूक छीन ली. गन छिन जाने के बाद हमलावर मौके पर मौजूद अपनी गाड़ी से फरार होने लगा, तो वहां मौजूद लोगों ने भी उसका पीछा किया.
    पुलिस के मुताबिक, हमलावर अपनी गाड़ी में मृत पाया गया. उसकी कार दुर्घटनाग्रस्त थी. हालांकि, अभी ये साफ नहीं हो सका है कि हमलावर ने सुसाइड किया या उसका सामना करने वाले नागरिक ने उसे मार गिराया. हमले के समय हमलावर काले कपड़े पहने हुए था, साथ ही उसने बुलेटप्रूफ जैकेट भी पहनी हुई थी.

    एयरफोर्स से बर्खास्त हुआ था हमलावर
    चर्च पर हमला करने वाले शख्स की पहचान 26 वर्षीय युवक डेविन पी केली के रूप में हुई है, जिसे कोर्ट मार्शल कर एयरफोर्स से बर्खास्त किया गया था. हमलावर के बारे में फिलहाल और कोई जानकारी सामने नहीं आ सकी है.

    राष्ट्रपति ट्रंप ने की हमले की निंदा
    जापान दौरे पर चल रहे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी हमले की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, "ईश्वर सदरलैंड स्प्रिंग्स, टेक्सास के लोगों का साथ दे. एफबीआई और पुलिस मौके पर हैं. मैं जापान से घटना पर नजर रखे हुए हूं."

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सलकनपुर में महर्षि उत्तम विद्यापीठ का किया लोकार्पण
    PUBLISHED : Nov 05 , 9:43 AM


  • मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सीहोर जिले के सलकनपुर स्थित उत्तम सेवाधाम में महर्षि उत्तम विद्यापीठ विद्यालय का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री उत्तम स्वामी आध्यात्मिक व्यक्ति होने के साथ समाज सुधारक एवं समाजसेवी भी हैं। श्री चौहान ने इस अवसर पर मेधावी छात्र योजना तथा भावांतर भुगतान योजना की जानकारी देते हुए कहा कि सभी का विकास ही राज्य सरकार का लक्ष्य है।

    श्री उत्तम स्वामी ने बताया कि इस विद्यापीठ में आधुनिक शिक्षा के साथ ही धर्म और संस्कृति की शिक्षा भी दी जाएगी। कार्यक्रम में पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक, वन विकास निगम अध्यक्ष श्री गुरु प्रसाद शर्मा, विधायक श्री सुदेश राय,श्री रघुनाथ भाटी, श्री सीताराम यादव, श्री राजेश राजपूत, श्री कमलेश त्यागी, श्री नरेन्द्र सिंह चौहान सहित अन्य जन-प्रतिनिधि सहित बड़ी संख्या में स्थानीय लोग उपस्थित थे।
    बिन्दु सुनील

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...