International
  • रेल हादसा: पटना जा रही वास्को डि गामा एक्सप्रेस के 13 डिब्बे पटरी से उतरे, 3 की मौत
    PUBLISHED : Nov 24 , 8:35 AM


  • चित्रकुट के मानिकपुर स्टेशन पर देर रात एक बड़ा हादसा हो गया है। पटना जा रही वास्को डि गामा एक्सप्रेस(12741) ट्रेन मानिकपुर स्टेशन पर पलट गई। इस हादसे में तीन लोगों के मरने की खबर है। वहीं 8 लोग घायल हो गए। हालांकि रेलवे अधिकारी ने हादसे में किसी की भी मौत की खबर से इंकार कर दिया है।

    हादसा मानिकपुर स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 2 पर हुआ। एडीजी आनंद कुमार की सक्रियता से 45 मिनट में राहत कार्य पूरा हुआ। राहत कार्य तेजी से शुरू किया गया है। सभी घायलों को डायल 100 की गाड़ियों से अस्पताल ले जाया गया। हादसे की वजह साफ नहीं हो पाई है।रेलवे के साथ एटीएस कानपुर की टीम  हादसे की वजह की जांच करेंगी।

    एडीजी लॉ ने की तीन की मौत की पुष्टि
    उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार की मानें तो इस हादसे में अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है। हादसा सुबह चार बजकर 18 मिनट पर हुआ है। ट्रेन पटना जा रही थी तभी इसके 13 डिब्बे पटरी से उतर गए। कहा जा रहा है हादसा पटरी टूटने की वजह से हुआ है।  मृतकों की संख्या में इजाफा हो सकता है। वहीं रेस्क्यू टीम मौके पर मौजूद है और रेलवे के तमाम आला अधिकारी भी घटनास्थल पर मौजूद हैं। घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा चुका है। पीआरओ अनिल सक्सेना की ओर से जानकारी दी गई है कि हादसे के बाद हेल्पलाइन नंबर शुरू कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि हेल्पलाइन नंबरों से अलग राहत और बचाव कार्य भी जारी है।
    अधिकारी घटनास्थल के लिए रवाना
    नॉर्दन सेंट्रल रेलवे (एनसीआर) के पीआरओर अमित मालवीय ने घटना के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि घायलों को अस्पताल ले जाया गया है और अधिकारी घटनास्थल के लिए निकल चुके हैं। उन्होंने आगे जानकारी दी कि घटना के तुरंत बाद ही एक मेडिकल ट्रेन घटनास्थल के लिए रवाना कर दी गई और सुबह 5:20 मिनट पर राहत कार्य के लिए ट्रेन पहुंच चुकी थी। डिविजनल रेलवे मैनेजर (डीआएम) इलाहाबाद से पहले ही घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं और एनसीआर के जनरल मैनेजर पर रवाना हो चुके हैं।

  • डेंगू के इलाज का बिल 18 लाख रुपये: हरियाणा सरकार ने दिए मामले की जांच के आदेश
    PUBLISHED : Nov 22 , 7:57 AM


  • हरियाणा सरकार ने गुड़गांव के फोर्टिस अस्पताल में डेंगू से जान गंवाने वाली सात साल की बच्ची के परिवार से अस्पताल के भारी-भरकम बिल वसूलने के आरोपों की जांच के आदेश दे दिए हैं। हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने बताया कि आरोपों पर जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

    राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि एक सीनियर अफसर मामले की जांच करेंगे। उन्हें मामले की जल्द से जल्द जांच कर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दे दिए गए हैं। रिपोर्ट आते ही दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। राज्य में किसी भी अस्पताल को लोगों के स्वास्थ्य और भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

    फोर्टिस का बयान-
    गुड़गांव के फोर्टिस अस्पताल ने कहा कि डेंगू पीडि़त सात साल की बच्ची के इलाज में कोई चिकित्सकीय लापरवाही नहीं बरती गयी, अधिक बिल नहीं वसूला गया। बच्ची के परिवार को उसकी गंभीर हालत के बारे में हर स्तर पर जानकारी दी गयी, परिवार को रोजाना बिल के बारे में अवगत कराते रहे।

    इससे पहले मंगलवार को ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने हरियाणा सरकार से तत्काल जांच शुरू करने को कहा था। स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन ने हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव को पत्र लिखकर कहा था कि इस मामले में की जाने वाली कार्रवाई पर दो सप्ताह में रिपोर्ट दी जाए।
    उन्होंने पत्र में लिखा, मैं आपसे आग्रह करती हूं कि पूरे घटनाक्रम की तत्काल जांच शुरू कराएं। सूदन ने कहा कि अस्पताल द्वारा किये गये इलाज और वसूली गयी राशि का ब्योरा जानना जरूरी है। अस्पताल द्वारा उपलब्ध कराये गये विवरण पर तार्किकता के संबंध में विशेषज्ञों की राय ली जानी चाहिए।

    उन्होंने लिखा, अस्पताल की ओर से अधिक बिल वसूले जाने, लापरवाही करने या कदाचार का कोई भी मामला होने पर तत्काल अनुकरणीय कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि आम जनता को भरोसा दिलाया जा सके और स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली की साख बनाकर रखी जा सके। 

    मामला गुड़गांव के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट (एफएमआरआई) में सितंबर में सात साल की बच्ची को डेंगू के इलाज के लिए भर्ती कराने से जुड़ा है जिसमें बच्ची की मौत हो गयी थी और अस्पताल ने बच्ची के परिवार से करीब 16 लाख रुपये का बिल वसूला था।

    अस्पताल ने सोमवार को दावा किया था कि अस्पताल छोड़ते समय परिवार को करीब 20 पन्नों का बिल दिया गया था और पूरी तरह समझाया गया था।

  • महिला अपराधों के संबंध में कोताही बर्दाश्त नहीं होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
    PUBLISHED : Nov 21 , 8:24 AM

  • दोषियों के ड्राईविंग लायसेंस निरस्त होंगे
    मुख्यमंत्री ने लिया महिला सुरक्षा के उपायों का जायजा

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति अपराध की शिकायतों का तत्काल संज्ञान लिया जाये, तुरंत परीक्षण कराकर एफआईआर दर्ज की जाये और जरूरी होने पर समय पर मेडिकल परीक्षण भी कराया जाये। महिला अपराधों में दोषी पाये गये अपराधी के ड्राईविंग लायसेंस भी निरस्त करने की कार्रवाई की जाये। मुख्यमंत्री ने सुरक्षा व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त बनाने के लिये कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को संवेदनशील क्षेत्रों का संयुक्त भ्रमण करने के निर्देश दिये।

    मुख्यमंत्री आज यहाँ मंत्रालय में जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा के लिये किये गये उपायों की जानकारी ले रहे थे। इस मौके पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्पष्ट कहा कि महिलाओं के प्रति अपराध करने वालों को कड़ी सजा दिलाना सुनिश्चित किया जाये। सुरक्षा के उपायों के प्रति समाज के सभी वर्गों में जागरूकता बढ़ाई जाये। स्कूल, कॉलेज, छात्रावास, कोचिंग सेंटर एवं बाल सम्प्रेषण गृहों आदि क्षेत्रों का भ्रमण कर सुरक्षा के उपाय सुनिश्चित किये जायें। इन क्षेत्रों में सघन गश्त की जाये। कलेक्टर कम से कम माह में एक बार पुलिस अधीक्षक, महिला बाल विकास, स्वास्थ्य एवं नगरीय निकायों के अधिकारियों के साथ इस संबंध में बैठक करें।

    पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला ने बताया कि सभी संवेदनशील स्थानों में महिला सुरक्षा के उपाय सुनिश्चित किये जा रहे हैं। स्कूल, कॉलेज और छात्रावासों में सीसीटीव्ही कैमरे एवं चौकीदार की व्यवस्था तथा स्कूल बसों में सीसीटीव्ही कैमरे और साथ में महिला शिक्षिका का होना सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 31 दिसम्बर तक लोक परिवहन की बसों में भी सीसीटीव्ही कैमरे लगाना तय किया गया है।
    चौधरी

  • खेलों को प्रोत्साहित करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा
    PUBLISHED : Nov 19 , 9:30 AM

  • मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा राष्ट्रीय सीनियर कुश्ती स्पर्धा के पुरस्कार वितरित

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज इन्दौर में चार दिवसीय राष्ट्रीय सीनियर कुश्ती स्पर्धा के समापन समारोह में कहा कि मध्यप्रदेश में खेलों को प्रोत्साहित करने पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। खिलाड़ियों को आगे बढ़ने के लिये राज्य सरकार द्वारा हर संभव सहायता भी उपलब्ध करायी जायेगी।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिये लगातार कारगर प्रयास किये जा रहे हैं। प्रदेश के खिलाड़ी राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सीनियर कुश्ती स्पर्धा में पदक जीतने वाले श्री रवि बारोड़ और सुश्री रानी राणा को एक-एक लाख रूपये की राशि प्रोत्साहन स्वरूप दी जाएगी तथा नौकरी देने पर भी विचार किया जायेगा।

    श्री चौहान ने राष्ट्रीय स्पर्धा में पदक जीतने वाले पहलवानों को पुरस्कार वितरित किये। उन्होंने ओलम्पियन श्री सुशील पहलवान, सुश्री साक्षी मलिक, राष्ट्रीय स्पर्धा में पदक जीतने वाले श्री रवि बारोड़ और सुश्री रानी राणा का स्वागत किया। मध्यप्रदेश कुश्ती संघ के अध्यक्ष डॉ.मोहन यादव ने स्पर्धा के लिये राज्य सरकार द्वारा दिये गये सहयोग के लिये आभार व्यक्त किया।

    इस अवसर पर केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत, महापौर श्रीमती मालिनी गौड़, इन्दौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, मध्यप्रदेश ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष तथा विधायक श्री रमेश मेंदोला, मध्यप्रदेश कुश्ती संघ के अध्यक्ष तथा विधायक डॉ. मोहन यादव, विधायक श्री महेन्द्र हार्डिया मौजूद थे।
    के. के.जोशी

  • प्यू रिसर्च: भारतीय राजनीति में पीएम मोदी अब भी सबसे लोकप्रिय हस्ती
    PUBLISHED : Nov 16 , 8:28 AM


  • एक अमेरिकी थिंक टैंक ‘प्यू रिसर्च सेंटर’ के सर्वेक्षण के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भारतीय राजनीति में जलवा अब भी बरकरार है। सर्वे में बताया गया कि मोदी अब भी देश में सबसे लोकप्रिय हस्ती हैं। इस सर्वे में भारत के करीब 2,464 लोगों को शामिल किया गया था।

    21 फरवरी से 10 मार्च तक का सर्वे
    इस साल 21 फरवरी से 10 मार्च के बीच किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, 88 प्रतिशत के आंकड़े के साथ मोदी को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी (58 प्रतिशत) पर 30 अंकों, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (57 प्रतिशत) पर 31 अंकों जबकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (39 प्रतिशत) पर 49 अंकों की बढ़त मिली हुई है।
    प्यू ने अपने सर्वे में कहा कि जनता द्वारा मोदी का  सकारात्मक आकलन भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर बढ़ती संतुष्टि से प्रेरित है। हर दस में से आठ लोगों ने कहा कि आर्थिक दशाएं अच्छी हैं। ऐसा महसूस करने वाले लोगों में 2014 के चुनाव के ठीक पहले से 19 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

    सभी राज्यों में लोकप्रिय
    सर्वे में कहा गया कि अर्थव्यवस्था को बहुत अच्छा (30 प्रतिशत) बताने वाले वयस्कों के आंकड़े में पिछले तीन साल में तीन गुनी वृद्धि हुई है। कुल मिलाकर हर 10 में से सात भारतीय देश में चल रही चीजों को लेकर संतुष्ट  हैं। भारत की दिशा को लेकर सकारात्मक आकलन में वर्ष 2014 से करीब दोगुनी वृद्धि हुई है। प्यू के अनुसार, दक्षिणी भारतीय राज्यों आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना और पश्चिमी राज्यों महाराष्ट्र, गुजरात, छत्तीसगढ़ में हर 10 में से नौ भारतीय नागरिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पक्ष में है। इसी तरह पूर्वी राज्यों बिहार, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और उत्तरी राज्यों दिल्ली, हरियाणा, मध्य प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में प्रत्येक 10 में से आठ नागरिक मोदी को पसंद करता है।

  • ग्रामीण क्षेत्रों में विदयुत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिला स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार
    PUBLISHED : Nov 15 , 8:40 AM

  • प्रयोग के तौर पर राजगढ, विदिशा और रायसेन में होगी शुरूआत
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की ऊर्जा विभाग की समीक्षा

    प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत मीटर रीडिंग, बिल वितरण और विद्युत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिलाओं के स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार किया जा रहा है। प्रयोग के तौर पर इस व्यवस्था को दिसम्बर माह से राजगढ, विदिशा और रायसेन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में लागू किया जाएगा। तीन से पांच सदस्यों वाले ग्रामीण महिला स्व-सहायता समूहों को यह जिम्मेदारी दी जायेगी। प्रत्येक दस गांवों के लिये एक महिला स्व-सहायता समूह होगा। इन समूहों को विदयुत राजस्व की शत-प्रतिशत वसूली करने पर 15 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। समूह को छह हजार रूपये प्रति माह का मेहनताना भी मिलेगा।

    यह जानकारी आज यहां मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आयोजित ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक में दी गई। बैठक में ग्रामीण घरेलू बिजली बिलों के निराकरण के मुददे पर पर भी चर्चा हुई।

    बैठक में बताया गया कि प्रतिदिन 23 करोड़ यूनिट बिजली की आपूर्ति हो रही है और 2000 मेगावाट बिजली की बैकिंग उपलब्ध है। बिजली की कोई कमी नहीं है। खराब ट्रांसफार्मरों को बदलने के काम में तेजी लाते हुए अब तक 2050 खराब ट्रांसफार्मरों को बदल दिया गया है। कृषि पंपों को अस्थाई कनेक्शन देने की योजना से 30 हजार किसानों को लाभ मिला है। अस्थाई कनेक्शन की राशि 13 हजार रूपये से घटाकर 8,400 रूपये कर दी गई है। बिलिंग सिस्टम को और ज्यादा प्रभावी बनाया जा रहा है। प्रत्येक जिले को पूर्णत: विद्यतीकृत बनाने की दिशा में काम चल रहा है।

    समीक्षा बैठक में ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक बर्णवाल, सचिव मुख्यमंत्री श्री विवेक अग्रवाल और विदयुत वितरण कंपनियों के मुख्य प्रबंध संचालक उपस्थित थे।
    ए.एस.

  • विद्यार्थियों के वैज्ञानिक प्रयोगों को प्रोत्साहन देने 50 करोड़ का विशेष कोष बनेगा
    PUBLISHED : Nov 11 , 5:27 AM

  • बाल वैज्ञानिक प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करना सरकार और समाज की जिम्मेदारी
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 44वीं राष्ट्रीय विज्ञान, गणित तथा पर्यावरण प्रदर्शनी का किया शुभारंभ


    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विद्यार्थियों द्वारा वैज्ञानिक प्रयोगों को प्रोत्साहित करने के लिये 50 करोड़ रूपये की राशि से विशेष कोष बनाया जायेगा। श्री चौहान ने आज यहां आर.सी.व्ही. पी नरोन्हा प्रशासन अकादमी में 44वीं जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित तथा पर्यावरण प्रदर्शनी 2017 का शुभारंभ करते हुए यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि बाल वैज्ञानिक प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करना सरकार और समाज दोनों की जिम्मेदारी है। उन्होंने विद्यार्थियों का आव्हान किया कि वे अपनी प्रतिभा को पहचानें और उसे कभी धूमिल नहीं होने दें। कभी भी निराश न हों। और आगे बढ़ने का जज्बा रखें। उन्होंने कहा कि भारत का अतीत गौरवशाली था और युवाओं के सहयोग से वर्तमान को भी गौरवशाली बनाया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि 21वीं सदी युवाओं के भारत की सदी है। वे ही नये भारत का निर्माण करेंगे।

    प्रदर्शनी का आयोजन राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद नई दिल्ली एवं स्कूल शिक्षा विभाग मध्यप्रदेश द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। यह प्रदर्शनी 16 नवम्बर तक चलेगी।

    मुख्यमंत्री ने प्रदर्शनी में भाग ले रहे विद्यार्थियों को संबोधित करते हुये कहा कि आज का आरामदेह जीवन और सभी सुख-सुविधायें वैज्ञानिकों की प्रतिभाओं का परिणाम है। उन्‍होंने कहा कि विज्ञान में जीवन की हर समस्या का समाधान है। मुख्यमंत्री ने बाल वैज्ञानिकों का आव्हान किया है कि वे मौलिक रूप से सोचने की आदत डालें, वैज्ञानिक आविष्कार करने में मदद देगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना और वेंचर केपिटल फंड जैसे नवाचारी प्रयासों की चर्चा करते हुये कहा कि धन के अभाव में प्रतिभाओं को पीछे नहीं रहने देंगे। श्री चौहान ने कहा कि न्यूयार्क विश्वविद्यालय के सहयोग से प्रदेश मे इनक्यूबेशन केन्द्र की स्थापना की जा रही है। इसके माध्यम से नवाचारी विचारों और प्रयोगों को प्रोत्साहित किया जायेगा।

    स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह एवं स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी ने भी विद्यार्थियों को संबोधित किया। एन.सी.आर.टी.के संचालक श्री ऋषिकेश सेनापति ने विज्ञान, गणित और पर्यावरण प्रदर्शनी के आयोजन के इतिहास की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह प्रदर्शनी विद्यार्थियों में अभिरूचि जागृत करने के लिये एन.सी.ई.आर.टी. द्वारा चलाये गये प्रकल्पों में से एक है।

    मुख्यमंत्री ने प्रदर्शनी में रखे वैज्ञानिक प्रदर्शो का अवलोकन किया और विद्यार्थियों के वैज्ञानिक सोच की सराहना की। मुख्यमंत्री ने राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा प्रकाशित 'कोशिश' पुस्तक का विमोचन किया। इसमें बाल वैज्ञानिकों द्वारा बनाये गये वैज्ञानिक प्रादर्शों का संग्रहण किया गया।

    आयुक्त लोक शिक्षण श्री अजय गंगवाल ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किये। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर प्रशासन अकादमी की महानिदेशक श्रीमती कंचन जैन, राज्य शिक्षा केन्द्र के संचालक श्री लोकेश जाटव उपस्थित थे।

    प्रदर्शनी परिदृश्य

    एक सप्ताह तक चलने वाली यह प्रदर्शनी स्वास्थ्य, उद्योग, परिवहन एवं संचार, पर्यावरण विकास के लिये नवीनीकरण संसाधनों में नवाचार, कृषि उत्पादन एवं खाद्य सुरक्षा में नवाचार और दैनिक जीवन में गणित का उपयोग जैसे पांच विषयों पर आधारित है। 

    इसमें सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के 143 विद्यार्थी भाग ले रहे हैं। इसका उद्देश्य बच्चों  में विज्ञान विषय में नवाचार को प्रचारित करना और विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण के प्रति स्वाभाविक जिज्ञासा जाग्रत करना एवं रचनात्मकता को प्रोत्साहित करना है।
    ए.एस.

  • अब श्रमिकों की जानकारी आनलाईन केंद्र की वेबसाईट पर देनी होगी
    PUBLISHED : Nov 07 , 7:49 AM


  • डॉ नवीन जोशी

    भोपाल।
    अब ठेका श्रमिकों, अंतरराज्यीय प्रवासी कर्मकारों तथा भवन एवं अन्य संनिर्माण में लगे श्रमिकों की जानकारी संबंधित ठेकेदारों एवं कंपनियों-संस्थाओं को आनलाईन केंद्र सरकार की वेबसाईट पर अपलोड करना होगी। इस संबंध में केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के तहत नवीन प्रावधान कर दिया है जो आगामी 27 नवम्बर के बाद मप्र सहित पूरे देश में प्रभावशील हो जायेगा।
    नवीन प्रावधान के अनुसार, उक्त प्रकार के श्रमिकों को नियोजित करने वाले ठेकेदारों एवं कंपनियों को अपने रजिस्ट्रेशन के समय भी सभी जानकारियां जिनमें ठेकेदार का नाम, मोबाईल नंबर, पता, नियोजित श्रमिकों की संख्या, ई-मेल आईडी आदि आनलाईन देना होगी। इसके अलावा उन्हें एकीकृत वार्षिक विवरणी भी आनपलाईन देना होगी जिसमें मजदूरों को नकद या वस्तु के रुप में भुगतान पारिश्रमिक तथा दिये गये अवकाश की भी सूचना देनी होगी।
    श्रमिकों की उक्त सभी जानकारियों भारत सरकार के श्रम सुविधा पोर्टल पर हर साल फरवरी माह की पहली तारीख को अपलोड करनी होगी। इसके लिये ठेका श्रम विनियमन और उत्पादन केंद्रीय संशोधन नियम 2017,
    अंतर्राज्यीय प्रवासी कर्मकार नियोजन का विनियमन और सेवा शर्तें केंद्रीय संशोधन नियम 2017 तथा श्रम विधि संशोधन नियम 2017 बनाये गये हैं।
    नये प्रावधानों के तहत श्रमिकों से लिये जाने वाले कार्य की प्रकृति, कार्य आरंभ करने की अनुमानित तिथि, कार्य पूर्ण होने की अनुमानित तिथि, भवन एवं अन्य संनिर्माण कानून, संविदा श्रम कानून, अंतर्राज्यीय प्रवासी कर्मकार कानून, कर्मचारी भविष्य निधि कानून, कर्मचारी राज्य बीमा कानून, खान अधिनियम, कारखाना अधिनियम, मोटर परिवहन कर्मकार कानून, दुकान एवं स्थापना कानून के तहत लिये गये रजिस्ट्रेशन का नंबर भी देना होगा।
    विभागीय अधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार अब हर ठेका, प्रवासी एवं संनिर्माण श्रमिकों को नियोजित करने वाले ठेकेदारों एवं कंपनियों को यूनिक लिन नंबर देगी जिसके लिये उसने नये प्रारुप नियम जारी किये हैं। मप्र में आनलाईन जानकारी लेने के लिये श्रम सेवा पोर्टल है जबकि केंद्र ने अपने उपक्रमों के संबंध में श्रम सुविधा पोर्टल बनाया है। इन श्रमिकों के संबंध में सभी जानकारियां एवं विवरणियां आनलाईन भेजना अनिवार्य होगी।

    कम दर पर एलम प्रदाय करने वाली फर्म ब्लेक लिस्टेड
    भोपाल।
    राज्य सरकार के नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने मेसर्स अपार केमिकल्स देवराहा काम्प्लेक्स विजय टाकिज रोड सागर को ब्लेक लिस्टेट कर दिया है। फर्म ने अनुबंधित दर से कम दर पर सामग्री एल्युमिना फेरिक एलम का प्रदाय किया जिसके कारण उसे मप्र शासन अथवा शासन के उपक्रमों में इसका प्रदाय किये जाने से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

    डॉ नवीन जोशी

  • राम की नगरी चित्रकूट लंका की तरह जीतना चाहती है भाजपा.....
    PUBLISHED : Nov 06 , 7:59 AM


  • डॉ. नवीन जोशी

    भोपाल।कांग्रेस बीजीपी के लिए नाक का संवाल बन चुके चित्रकूट चुनाव का घमासान अब दिलचस्प मोड़ पर आ चुका है।प्रदेश के मुखिया जहां अगले दो दिन में 60 से ज्यादा गांव में रोड शो करेंगे,तो कांग्रेसी दिग्गज कमलनाथ ओर ज्योतिदित्य सिंधिया ने भी कांग्रेसी पंजे को बुलंद कर रखा है।लेकिन ये पहली बार है जब किसी उपचुनाब में दूसरे प्रदेश का उपमुख्यमंत्री बीजेपी का कमल खिलाने चित्रकूट आ रहा है।
     चित्रकूट उपचुनाव में मतदान की तारीख आते ही दोनों दलों ने चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। बेहद कांटे के माने जा रहे चित्रकूट उपचुनाव में मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए बीजेपी कांग्रेस ने जान लगा दी है।दोनों दलों के दिग्गज अपने पक्ष में चुनावी मोड़ने की कोशिश में लग चुके है।यही वजह है कि जहां बीजेपी के एक दर्जन से ज्यादा मंत्री समेत संगठन चित्रकूट का किला फतह करने में जुट गया है तो मुख्यमंन्त्री ने आज से तीन दिन के लिए राम की नगरी में डेरा डाल लिया है।मुख्यमंन्त्री इन तीन दिनों में 60 से ज्यादा गांव में रोड शो करेंगे तो कांग्रेस के तमाम दिग्गजों ने एक होकर चित्रकूट को जीतने के लिए कमर कस ली है।लेकिन किसान आंदोलन से उपजे जनता के आक्रोश के चलते बीजेपी के लिए ये सीट जीतना बेहद जरूरी हो गई।यही वजह है की पहली बार बीजीपी को चित्रकूट से सटे उत्तरप्रदेश के उप मुख्यमंन्त्री केशव प्रसाद मौर्य को चुनाव प्रचार के लिए बुलाना पड़ा है।लेकिन कांग्रेस के मुताबिक मौर्य को बुलाना मतलब बीजेपी को हार के संकेत दिख रहे हैं।

    ..जहां कांग्रेस की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने मोर्चा संभाल रखा है तो कमलनाथ ओर सिंधिया की रैली में जुट रही भीड़ ने भी बीजेपी की परेशानी बढ़ा दी है।भाजपा जहां प्रधानमंत्री और मुख्यमंन्त्री के विकास कार्यों और सरकार की गरीबो के लिए संचालित योजनाओं के नाम पर वोट मांग रही है तो कांग्रेस केंद्र और राज्य की योजनाओं की विफलता,भावान्तर,बिजली के बिलो पर किसानों की नाराजगी मंहगाई जैसे मुद्दों पर मतदाताओं के बीच जा रही है।ऐसे में बीजेपी के ओर खुद मुख्यमंन्त्री शिवराज के लिए इस चुनाव की जीत बेहद महत्व रखती है यही वजह है कि दूसरे प्रदेश के मुख्यमंन्त्री को प्रचार में बुलाये जाने पर कांग्रेस संवाल उठा रही है ।लेकिन बीजीपी अपने जीत के प्रति आश्वश्त नजर आ रही है।
    - पहले बीजेपी द्वारा प्रत्याशी के चयन में दस नामो का पैनल भेजना दूसरे उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंन्त्री को चुनाव प्रचार में बुलाया जाना,बीजेपी पर सवाल खड़ा करता है कि कहीं न कहीं बीजेपी के लिए ये राम की नगरी की ये सीट लंका विजय बराबर बन गई है।
    डॉ. नवीन जोशी

  • राज्य कर्मचारी कल्याण समिति के अध्यक्ष को मिले जिलों के दौरे के अधिकार
    PUBLISHED : Nov 05 , 9:15 AM
  • डॉ नवीन जोशी

    भोपाल।
    राज्य सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के कल्याण हेतु गठित राज्य कर्मचारी कल्याण समिति के अध्यक्ष को जिलों का दौरा करने के अधिकार प्रदान कर दिये हैं। इसके लिये समिति को सौंपे गये कार्यों में नया संशोधन किया गया है। समिति के अध्यक्ष पद पर गत 29 दिसम्बर 2015 को रमेशचन्द्र शर्मा को नियुक्त किया गया है। नये संशोधन के अनुसार, समिति के अध्यक्ष राज्य में दौरा कर कर्मचारी संगठनों, प्रतिनिधियों और कर्मचारियों से सम्पर्क एवं संवाद बनाये रखेगा ताकि कर्मचारियों की समस्याओं का निराकरणर निश्चित समयावधि में किया जा सके एवं दौरे के दौरान जिला कलेक्टर द्वारा हर संभव सहयोग प्रदान किया जायेगा, जिले में नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की जायेगी जो कर्मचारी प्रतिनिधियों, संगठनों एवं समिति के बीच समन्वय स्थापित करेगा, नोडल अधिकारी का नाम, पदनाम एवं दूरभाष आदि की सूचना, जिला कलेक्टरों द्वारा समिति के अध्यक्ष को उपलब्ध कराई जायेगी।

    राप्रसे के अनुराग सक्सेना पर्यटन उपायुक्त नियुक्त
    भोपाल।
    राज्य शासन ने उप सचिव सामान्य प्रशासन विभाग अनुराग सक्सेना को जोकि राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं, को उप सचिव पर्यटन विभाग एवं राजस्व तथा उपायुक्त पर्यटन पदस्थ किया है।

    डॉ नवीन जोशी

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...