In Madhya Pradesh
Shushma Swaraj
services
Saniya Mirza
Kalpana Chawla
Anuradha Shankar
  • गुजरात: CM पद से आनंदीबेन का इस्‍तीफा, BJP संसदीय बोर्ड करेगा फैसला
    PUBLISHED : Aug 01 , 8:46 PM


  • गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि केंद्रीय नेतृत्व को इस्तीफा मिल गया है और केंद्रीय संसदीय बोर्ड की बैठक में अगले कदम के बारे में फैसला होगा। राज्य में नए के लिए राज्य सरकार में मंत्री नितिन पटेल व प्रदेश अध्यक्ष विजय रूपाणी का का नाम प्रमुख है।

    पाटीदार आंदोलन से लेकर उना विवाद तक आनंदी बेन पटेल लगातार विवादों में घिरी रही थी। ऐसे में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए भाजपा नेतृत्व पर राज्य में मुख्यमंत्री बदलने का भारी दबाब था।
    गौरतलब है कि लगभग ढाई महीने पहले भाजपा उपाध्यक्ष ओम माथुर ने गुजरात पर अपनी अंदरूनी रिपोर्ट में आनंदी पटेल को हटाए जाने का सुझाव दिया था। इसके बाद आंनदी पटेल को पटेल को हटाए जाने की अटकलें तेज हो गई थी। इलाहाबाद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक व उपचुनाव के चलते इसे टाल दिया गया था। हालांकि आनंदी बेन पटेल ने इस साल नवंबर में 75 साल पूरे होने को इस्तीफे की वजह बताते हुए कहा है कहा है कि उनको दो माह पहले ही कार्यमुक्त कर दिया जाए ताकि विधानसभा चुनाव व बाइब्रेंट गुजरात से पहले नए नेतृत्व को समय मिल सके।

  • साध्वी त्रिकाल भवंता समाधि पर अड़ीं...!
    PUBLISHED : Apr 27 , 6:49 AM

  •  उज्जैन। परी अखाड़े को सभी मान्यताएं व सुविधाएं नही देने से रूष्ट अखाड़े की प्रमुख साध्वी के भूमि समाधि लेने के पहले ही प्रशासन व पुलिस के अधिकारी वहां पहुंच गए और साध्वी से 24 घंटे की मोहलत सारी समस्याएं हल करने की मांगकर उन्हें समाधि लेने से पहले ही खोदे गए गढ्ढे से बाहर निकाल लाए।
     परी अखाड़े की साध्वी त्रिकाल भंवता अपने अखाड़े को 14 अखाड़े का स्थान दिलाने को लेकर शासन व सभी अखाड़ो से लड़ रही हैं। पिछले दस दिनों से साध्वी अपनी मांगो को लेकर अनशन कर रही हैं और तबियत बिगड़ने पर उन्हें पिछले दिनों अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया था
    साध्वी की मांग है कि उनके परी अखाड़े को भी संतों के 14 अखाड़ों में शामिल किया जाए। साथ ही उनकी मांग है कि अन्य अखाड़ों की तरह उन्हें राज्य सरकार द्वारा सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएं।
    सोमवार को साध्वी त्रिकाल भंवता बिना डिस्चार्ज हुए ही अपने कैम्प में पहुंच गई और शासन की गलत नीतियों से परेशान होकर मंगलवार को भूमि समाधि लेने की घोषणा की थी।
    इसी घोषणा के चलते मंगलवार को उनके कैम्प में समाधि के लिए तैयारियां की गई थीं। इसकी भनक प्रशासन व पुलिस को भी लग गई थी, लिहाजा सभी सुबह कैम्प पर ही जमा हो गए थे। जैसे ही साध्वी के भूमि समाधि लेने की प्रक्रिया शुरू हुई प्रशासन व पुलिस के अधिकारी उन्हें मनाने पहुंच गए। 
    काफी देर तक मान मुनव्वल की प्रक्रिया चली बाद में पुलिस को थोड़ा हस्तक्षेप भी लोगों को हटाने के लिए करना पड़ा। अधिकारियों ने उनसे 24 घंटे में अखाड़े से जुड़ी समस्याएं हल करने का आश्वासन दिया, तब जाकर वह मानी और गढ्ढे से बाहर निकलीं।
     

  • आर्थिक उद्यमिता के क्षेत्र में बेटियाँ भी आयें, सरकार सहयोग करेगी
    PUBLISHED : Mar 02 , 8:33 AM

  • मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने छात्राओं का आव्हान किया है कि वे आर्थिक उद्यमिता के क्षेत्र में भी कदम रखें। उद्योग लगाने के लिए टेक्नोलॉजी, मार्केटिंग और पूँजी की व्यवस्था सरकार करेगी। बैंक गारंटी भी लेगी। श्री चौहान ने शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या महाविद्यालय के वार्षिक स्नेह सम्मेलन में कहा कि बेटियों के साथ किसी भी प्रकार का भेदभाव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

    श्री चौहान ने प्रदेश में महिलाओं को सामाजिक और आर्थिक रूप से अधिकार संपन्न बनाने के लिए उठाए गए कदमों की चर्चा करते हुए कहा कि सरकार बेटियों को ज्यादा से ज्यादा सशक्त बनाना चाहती है। उन्होंने छात्राओं का आव्हान किया कि वे बडे़ पदों पर जायें और उद्योग क्षेत्र में भी जाने की सोच बनायें। उन्होंने कहा कि बेटियाँ किसी से कम नहीं है। उनमें क्षमता और प्रतिभा है। वे हर क्षेत्र में सफलताओं के नए कीर्तिमान स्थापित कर रही हैं।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में स्थानीय निकायों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया था लेकिन अपनी प्रतिभा से वे 56 प्रतिशत स्थानों पर चुन कर आईं और सफलतापूर्वक स्थानीय सरकार चला रही हैं। सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33 प्रतिशत और शिक्षकों की भर्ती में 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है।

    श्री चौहान ने छात्राओं की माँग पर महाविद्यालय के डॉ. शंकर दयाल शर्मा सभागार को इसी साल वातानुकूलित बनाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय की बाउंड्री वाल और भवन का निर्माण भी इसी साल पूरा किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि नारी के रूप में बेटियाँ भारत में हमेशा से आगे रही हैं। शास्त्रों में भी पहले नारी की पूजा होती है। उन्होंने घोषणा की कि जल्दी ही ऐसी योजना बनाई जाएगी जिसमें निर्धन प्रतिभावान छात्र-छात्राओं की पढ़ाई का खर्चा सरकार देगी। इसके पीछे उद्देश्य यही है कि पैसों के अभाव में प्रतिभावान छात्र-छात्राएँ  पीछे ना रहें।

    उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता मुख्य अतिथि और नगर निगम के अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कॉलेज स्तर की परीक्षाओं में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाली और खेल प्रतियोगिताओं में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली छात्राओं को गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया।

    प्राचार्य डॉ. इन्दुप्रभा तिवारी ने प्रगति प्रतिवेदन पढ़ा। मुख्यमंत्री ने महाविद्यालय के न्यूज लेटर और शोध पत्रिका का विमोचन भी किया।

  • सिहंस्थ के श्रमिकों पर भी भविष्य निधि लागू होगा
    PUBLISHED : Feb 21 , 9:16 PM

  • इन्दौर। दैनिक वेतनभोगी और अंश कालिक श्रमिकों को भविष्य निधि के दायरे में लाने के साथ सिहंस्थ के निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों को भी भविष्य निधि योजनाओं का लाभ दिलाने के प्रयास जारी हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के इन्दौर स्थित क्षेत्रीय भविष्य निधि कार्यालय में क्षेत्रीय सलाहकार समिति की बैठक में यह जानकारी दी गई। बैठक की अध्यक्षता कर रहे मध्यप्रदेश के क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त अजय मेहरा ने बताया कि विभिन्न विभागों द्वारा दिये जाने वाले बड़े ठेकों के लिये पी.एफ कोड अनिवार्य करने की कार्रवाई भी जारी है तथा इसके लिये संबंधित विभागों जैसे लोक निर्माण विभाग, नगर निगम सहित सभी विभागों को पत्र लिखे गये हैं। श्री मेहरा ने बताया कि बंद पड़ी मिलों के श्रमिकों की भविष्य निधि की राशि की वसूली के लिये भी शासकीय परिसमापक (ऑफिसियल लिक्वीडेटर) को पत्र लिखा है।

    श्री मेहरा ने बताया कि भविष्य निधि सदस्य नियोक्ताओं के हस्ताक्षर के बिना भी राशि निकाल सकेंगे। इसके लिये सदस्यों के के.वाय.सी. आधार लिंक करना होगा। इसके साथ ही शीघ्र ही दावों के निपटान की प्रक्रिया ऑनलाईन शुरू की जा रही है। श्री मेहरा ने दावों के निपटान की जानकारी देते हुये बताया कि अभी तीन दिनों में दावों का निपटान किया जा रहा है। भविष्य निधि संगठन को ई-गवर्नेंस के लिये राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हो चुका है। बैठक में श्रम आयुक्त के.सी. गुप्ता ने बताया कि श्रम विभाग में प्रदेश के करीब 4700 बिल्डर और ठेकेदार पंजीकृत हैं जिनकी सूची भविष्य निधि कार्यालय को उपलब्ध कराई जा रही हैं। क्षेत्रीय सलाहकार समिति की बैठक में भारतीय मजदूर संघ के महामंत्री सुल्तान सिंह शेखावत, इंटक म.प्र. के महामंत्री कृपाशंकर वर्मा, नियोक्ता प्रतिनिधि आलोक दवे, क्षेत्रीय आयुक्त गजाला अली खान और पी.सी. गुप्ता ने भी अपने विचार व्यक्त किये। बैठक में इन्दौर के अलावा भोपाल, सागर, उज्जैन, जबलपुर और ग्वालियर स्थित भविष्य निधि कार्यालय के प्रभारी अधिकारी भी मौजूद थे।

1